61 वी पुण्यतिथि पर भावपूर्ण स्मरणयाद किए गए त्यागमूर्ति गोस्वामी गणेश दत्त महाराज

हरिद्वार। श्री सनातन धर्म प्रतिनिधि सभा पंजाब नई दिल्ली के संस्थापक अध्यक्ष जाने-माने शिक्षाविद धर्मगुरु त्यागमूर्ति गोस्वामी गणेश दत्त महाराज की 61 वीं पुण्यतिथि पर उन्हें भावपूर्ण श्रद्धांजलि अर्पित की गई । इस अवसर पर श्री मिथिलेश सनातन  धर्म इंटर कॉलेज कनखल ,सप्त ऋषि आश्रम भूपतवाला और गीता भवन हरिद्वार में उनकी मूर्ति पर पुष्प चढ़ाकर श्रद्धांजलि दी गई। इस अवसर पर सभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सुधीर कुमार गुप्ता ने कहा कि गोस्वामी गणेश दत्त जी महाराज महान संत थे वे त्याग और तपस्या की जीवंत प्रतिमा थे उन्होंने कहा कि उन्होंने पूरे देश में शिक्षण संस्थाएं खोलकर  शिक्षा के प्रचार प्रसार में महत्वपूर्ण योगदान दिया गुप्ता ने कहा कि वे महामना मदन मोहन मालवीय के एकमात्र मंत्र दीक्षित शिष्य थे और वे उनके मानस पुत्र कहलाए जाते थे। सप्त ऋषि आश्रम के प्रशासक डॉ.आरपी विज ने कहा कि गोस्वामी गणेश दत्त महाराज ने हमेशा मानवता की सेवा की।  प्रबंध समिति के सचिव एवं प्रबंधक नगर पालिका के पूर्व अध्यक्ष सतपाल ब्रह्मचारी ने कहा कि गोस्वामी जी के विचार हर युग में प्रासंगिक रहेंगे छुआछूत के खिलाफ  बड़ा आंदोलन चलाया  और दिल्ली के बिरला मंदिर में दलितों को मंदिर में प्रवेश कराया और पूजा-अर्चना कराई। महन्त स्वरूप बिहारी शरण कौशिक ने कहा कि त्यागमूर्ति ने शिक्षा के क्षेत्र में अनुकरणीय कार्य किया है गोस्वामी जी की प्रतिमा और समाधि में पुष्पमाला चढ़ाई गई और हवन का आयोजन किया गया। इस मौके पर कॉलेज की प्रधानाचार्य श्रीमती मीनाक्षी शर्मा ने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में गोस्वामी जी के किए गए कार्यों को कभी नहीं भुलाया जा सकता है वे महामानव थे। मौके पर कॉलेज की प्रबंध समिति के अध्यक्ष सुधीर कुमार गुप्ता ने खेल से जुड़ी प्रतिभाओं को पौष्टिक खाद्यान्न वितरित किया। शिक्षिका जयंती वर्मा ने संचालन किया  जगदेव सिंह संस्कृत महाविद्यालय के प्रधानाचार्य राजेंद्र गुनियाल ,विनोद सैनी, सत्य प्रकाश सक्सेना, हेमा  उप्रेती, कमलेश अरोड़ा,  प्रमिला शर्मा,  लीना जोशी ,देविका ,रेखा भट्ट , दिनेश उप्रेती,  प्रदीप डिमरी ,अमित गिरी, भारत भूषण  गंभीर सिंह राणा आदि ने गोस्वामी जी को श्रद्धांजलि अर्पित की