भूमिगत बिजली केबिल डालने का कार्यो का निरीक्षण

हरिद्वार। प्रबंध निदेशक उत्तराखण्ड पाॅवर कोर्पोरेशन लिमिटेड नीरज खैरवाल ने हरिद्वार पहुंच मेला नियंत्रण सभागार में यूपीसीएल, राष्ट्रीय राजमार्ग और लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों की बैठक ली। बैठक में जिलाधिकारी सी.रविशंकर, अपर मेला अधिकारी कुम्भ ललित नरायण मिश्र, हरबीर सिंह सहित कार्यदायी संस्थाओं के अधिकारी उपस्थित रहे। खैरवाल ने यूपीसीएल के भौतिक और वित्तीय कार्यो की प्रगति की समीक्षा की। उन्होंने कार्य पूर्ण कर दिये जाने पर भुगतान सम्बंधी प्रक्रिया में विलम्ब न किये जाने की भी बात कही। उन्होंने कहा कि काॅट्रेक्टर विद्युत लाइनों के भूमिगत किये जाने का कार्य कर रहे हैं। उनको उनकी भौतिक प्रगति रिर्पोट प्रस्तुत कर दिये जाने पर भुगतान में कोई समस्या नहीं आयेगी। जो कार्य समाप्त हो रहे हैं उनकी रिपोर्ट प्रस्तुत करें। जिलाधिकारी ने सभी विभागों द्वारा कार्य करने के किये सड़को के गड़्ढों से आम जन मानस को हो रही दिक्कतों से भी एमडी को अवगत कराया। उन्होंने कहा कि गड्ढों को कार्य करने के बाद तुरंत बंद किया जाये और कार्य चलने तक गड्ढों के पास बैरीकेट्स और रिफ्लेक्टर लगाये जायें। विभाग अपने कार्य की गुणवत्ता जन भावना के अनुरूप अपनी विभागों की छवि को भी विश्वसीनय बनाने के तरीकों को अपनाते हुए कार्य करें। गडड़्ोें के कारण पूर्व की घटनाओं के बाद भविष्य में ऐसी दुर्घटनायें न हो पाये। सड़कों के गड़ढों की वजह से दुर्घटना होने की संभावना को कम करने के लिए डीएम ने नागरिकों और स्थानीय जनप्रतिनिधियो द्वारा पूर्व सूचना दिये जाने के लिए जिला आपदा कंट्रोल रूम पर ऐसे स्थान की सूचना के देने के लिए कंट्रोल रूम नम्बर 01334-223999 टोल फ्री नम्बर-1077 भी साझा किये। इस पर नागरिक गड्ढों के सम्बंध में सूचना दे सकेंगे। खैरवाल ने ठेकेदारों और विभागीय अधिकारियों को कहा कि यह सभी विकास कार्य जनता की सुविधा प्रदान किये लिए किये जा रहे हैं जबकि आये दिन इन कार्यो से परेशानी सामने आने की बाते संज्ञान में आ रही हैं। सभी निर्माण विभाग कार्यो में समन्वय बना कर करे। बैठक में अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश देते हुए कहा कि कुम्भ मेले को सकुशल और सुरक्षित समापन हमारी प्राथमिकता है। हरिद्वार में जो भी कार्यदायी संस्थायें निर्माण कार्य और सेवा प्रदाता के रूप में कार्य कर रही हैं, वह अपने कार्यो को सुरक्षा मानको और समयबद्धता के आधार पर करें। उन्होंने अन्य विभागों के निर्माण कार्यो में यूपीसीएल की ओर से कोई निर्णय और वित्तीय कारणों से यदि कोई समस्या आ रही है तो बताये उन्हें शीघ्र ही निस्तारित किया जायेगा। कोई भी कार्य किसी भी विभाग की ओर से एनओसी देने और कोई जवाब न दिय जाने के कारण विलम्ब हुआ तो कार्रवाई की जायेगी। इसके बाद हरकी पैड़ी हरिद्वार से शुरूआत करते हुए उन्होंने यूपीसीएल की भूमिगत विद्युत लाइनों के कार्यो का स्थलीय निरीक्षण किया।