नई शिक्षानीति शिक्षा की गुणवत्ता को अध्यापक सुनिश्चित करेंगे

हरिद्वार। नई शिक्षा नीति पर विकास खंड स्तरीय वेबिनार का आयोजन खंड शिक्षा अधिकारी कार्यालय बहादराबाद के तत्वावधान में किया गया। अपर शिक्षा निदेशक महावीर सिंह बिष्ट ने कहा कि शिक्षा की गुणवत्ता को अध्यापक सुनिश्चित करेंगे। उन्होंने गुणवत्तापरक शिक्षा के लिए सभी माध्यमों में एक समान पाठ्यक्रम की वकालत करते हुए आईसीटी के अधिक प्रयोग की आवश्यकता पर बल दिया। अजय कुमार चैधरी ने कहा कि बहुप्रतीक्षित शिक्षा नीति का जमीनी स्तर पर क्रियान्वयन हम सब लोगों को मिलकर करना है। एक मजबूत शिक्षा नीति का देश को लंबे समय से इंतजार था। उम्मीद है कि हम शैक्षिक लक्ष्यों को प्राप्त कर मजबूत भविष्य का निर्माण डाइट रुड़की से राजीव आर्य ने सुझाव दिया कि आंगनबाड़ी को शिक्षा विभाग में जोड़ने से पूर्व उनका प्रशिक्षण 6 माह का ना होकर 2 वर्षीय डीएलएड की तरह हो, जिससे गुणवत्ता आए। उन्होंने कहा कि यदि पहले 5 साल की शिक्षा में अच्छे परिवर्तन नहीं हो पाए तो सब व्यर्थ है। कार्यक्रम समन्वयक पूनम राणा ने कहा कि नई शिक्षा नीति के संबंध में सभी के सुझावों को कलमबद्ध कर लिया गया है तथा बेहतर शैक्षिक वातावरण के निर्माण के लिए सभी को परिश्रम करना है तभी लक्ष्य प्राप्त होंगे। सह समन्वयक राजीव रॉय ने पावर प्वाइंट के माध्यम से नई शिक्षा नीति के घटकों पर प्रकाश डाला। डॉ. शिवा अग्रवाल, पंकज चैहान, बद्री प्रसाद उपाध्याय, कला नागरकोटी, आराधना गुप्ता, प्रदीप नेगी, डॉ. संतोष चमोला, राजेन्द्र रतूड़ी, राजेन्द्र चैधरी आदि ने भी संबोधित किया।