भूमिगत गैस लाइन बिछाने वाली कंपनी की कार्यशैली का होगा विरोध

 हरिद्वार। जनपद में भूमिगत गैस लाइन बिछाने वाली कंपनी की कार्यशैली का विरोध करते हुए विचार जागृति मंच के पदाधिकारियों की बैठक का आयोजन विवेक विहार कालोनी स्थित एडवोकेट अरविंद शर्मा के कार्यालय में किया गया। बैठक की अध्यक्षता एडवोकेट अरविंद शर्मा और संचालन सुधीर शर्मा ने किया। संस्था ने भूमिगत गैस लाइन से गैस कनेक्शन लिए जाने की बाध्यता तथा वर्तमान गैस एजेंसियों के भविष्य में बंद हो जाने की अफवाहों को अविलम्ब रोकने हेतू एक ज्ञापन जिला पूर्ति अधिकारी को देने का निर्णय लिया गया। संस्था का आरोप है कि भूमिगत गैस लाइन बिछाने वाली कंपनी के कर्मचारियों द्वारा गलत अफवाह फैलाकर उपभोक्ताओं को भूमिगत गैस कनेक्शन लेने हेतु बाध्य किया जा रहा है। एडवोकेट अरविंद शर्मा ने कहा कि भूमिगत गैस लाइन डालने वाली कंपनी हरिद्वार नैचुरल गैस प्रा. लि. के कर्मचारियों द्वारा प्रत्यक्ष तथा अप्रत्यक्ष रूप से अफवाह उडाई जा रही है कि भूमिगत गैस लाइन से उपभोक्ता को गैस कनेक्शन लिया जाना अनिवार्य है तथा आगामी कुछ माह में हरिद्वार जनपद की सभी एलपीजी गैस बंद करा दी जाएगी। बैठक में सदस्यों ने निर्णय लिया कि एक ज्ञापन के माध्यम से जिला पूर्ति अधिकारी को इन भ्रांतियों से अवगत कराया जाएगा तथा आग्रह किया जाएगा कि शासन स्तर पर इन्हें बंद करने की अफवाह से जनता को अवगत किया जाए। साथ ही यह भी आग्रह किया जाएगा कि शासन स्तर पर बताया जाए कि भूमिगत गैस लाइन से गैस कनेक्शन लेना किसी के लिए भी अनिवार्य नहीं है। बल्कि यह गैस उपभोक्ताओं की इच्छा पर निर्भर है कि वह भूमिगत गैस लाइन से कनेक्शन लेना चाहता है या गैस सिलेंडर का ही कनेक्शन रखना चाहता है। दोनों ही सेवाएं प्रतिस्पर्धात्मक रूप से अपनी अपनी सेवाएं देंगी। एलपीजी की खपत को किफायती बताते हुए कहा कि भूमिगत कनेक्शन की सिक्योरिटी 6000 रूपये है जबकि एलपीजी कनेक्शन सिक्यूरिटी मात्र 1600 रूपये है। सुधीर शर्मा ने बताया कि इस संदर्भ में हरिद्वार नेचूरल गैस प्रा. लि. के अधिकारी व प्रवक्ता प्रंजय जोशी से भी वार्ता की गई। जिसमें उन्होंने बताया कि किसी प्रकार की बाध्यता नहीं है। इस अवसर पर बलराम शर्मा, तरूण व्यास, नीरव साहू, अमन कुमार, हरदीप, उमेश शर्मा, विजय दीवान, डा.प्रदीप, सुंदर मनवाल, अनुज चैधरी, विक्रम, कपिल कुमार, अर्जुन सिंह, मोहित, रविन्द्र कुमार, नितिन कुमार आदि उपस्थित थे।