पंचगव्य उत्पादन से गौशालाएं व गौ पालक निंरतर समृद्ध हो रहे - राजेंद्र अणथ्वाल

 

हरिद्वार। उत्तराखण्ड गौ सेवा आयोग के उपाध्यक्ष पंडित राजेंद्र अणथ्वाल ने कहा कि गौमाता की सेवा के लिए आयोग पूर्ण रूप से समर्पित है। भूपतवाला स्थित कुंभ कैम्प कार्यालय का उद्घाटन करने के दौरान राज्यमंत्री पंडित राजेंद्र अणथ्वाल ने कहा कि आयोग कुंभ नगरी हरिद्वार में गौमाता के संरक्षण संवर्द्धन और सुरक्षा के साथ प्रदेश और देश की विभिन्न गौशालाओं में निर्मित पंचगव्य उत्पादन में भी योगदान करेगा। जिसमें संत समाज, युवा और समाजसेवियों का सहयोग भी लिया जाएगा। पंचगव्य उत्पादन से गौशालाएं व गौ पालक निंरतर समृद्ध हो रहे हैं। इसके लिए गौसेवा आयोग द्वारा समय समय पर प्रशिक्षण कार्यशालाओं का आयोजन भी किया जाता है। जनपद के विभिन्न ग्रामों महिलाओं समूहों के माध्यम से गोबर से निर्मित सामग्री दीपक आदि बनाने का प्रशिक्षण देकर ग्राम स्वावलम्बन का कार्य भी किया जा रहा है। इसका लाभ ऐसे लोगों को भी मिला जिनकी कोरोना काल में नौकरी छूट गयी थी। ग्राम स्वालम्बन योजना से जुड़कर उनकी आर्थिक स्थिति में सुधार आया। उन्होंने कहा कि हरिद्वार के संतों ने कोरोना काल में गौवंश के संरक्षण में अहम योगदान किया। कुंभ के दौरान गौसेवा के प्रकल्पों के जरिए स्नान के लिए आने वाले श्रद्धालुओं को गौसेवा के प्रति जागृत किया जाएगा। महंत रविन्द्रानंद सरस्वती ने कहा कि संत समाज गौसेवा आयोग के उपाध्यक्ष पंडित राजेंद्र अणथ्वाल के गौसेवा संकल्प को पूरा करने में पूर्ण सहयोग करेगा। एक गाय का पालन कर एक परिवार का खर्च आराम से चलाया जा सकता हे। गाय के गोबर से निर्मित कलाकृति आदि निर्माण करने के साथ गोबर को पांच सौ रूपए किलों तक विक्रय किया जा सकता है। इस दौरान कोरोना योद्धाओं तथा श्री गोस्वामी प्रीतम लाल मेमोरियल शिक्षा समिति, गोपीनाथ गौशाला, स्वामी नारायण मिशन संस्थान आदि संस्थाओं तथा जिला पशु क्रूरता निवारण समिति के उपाध्यक्ष अश्विनी शर्मा को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित भी किया गया। इस अवसर पर कुलदीप सैनी, सोनू कश्यप, दीपक प्रजापति, अनिकेत गिरी, वंश शर्मा, यश लालवानी, विश्वास सक्सेना, प्रेमप्रकाश नाडर, आशीष गौड़, आशीष जैन, इशांत उपाध्याय, नरेंद्र सिंह नेगी, ऋषभकांत गिरी, नवदीप अरोरा, अंशुल शर्मा, रामचंद्र, संजय, गंगा प्रसाद, आदित्य सक्सेना, पंउित सतीश शर्मा, आशु सैनी, अनुज पाल, जीतू सिंह आदि मौजूद रहे।