सरस्वती पूजन व कुम्भ के निर्विध्न सम्पन्न की कामना से हवन,भगवा ध्वज स्थापित

 

हरिद्वार। वसंत पंचमी के पावन पर्व पर जूना अखाडे द्वारा दुःखहरण हनुमान मन्दिर जूना अखाड़ा घाट ललतारौ पर सरस्वती पूजन तथा कुम्भ मेला 2021 के निर्विध्न शांति पूर्वक सम्पन्न होने की मंगलकामना के साथ हवन किया गया। इस अवसर पर जूना अखाड़े की तेरह मढी के कपूरथला परिवार के संस्थापक ब्रहमलीन श्रीमहंत शिवदत्त गिरि जी के प्राकट्य दिवस पर साधु-संतो के विशाल भण्डारे का आयोजन भी किया गया। जूना अखाड़ा घाट पर अखाडे के अन्र्तराष्ट्रीय संरक्षक श्रीमहंत हरिगिरि महाराज के संयोजन में कपूरथला परिवार के वर्तमान गादीपति श्रीमहंत पुरूषोत्तम गिरि,श्रीमहंत कमलपुरी,सभापति श्रीमहंत प्रेमा गिरि,सचिव श्रीमहंत मोहन भारती,श्रीमहंत महेशपुरी,गादीपति श्रीमहंत पृथ्वी गिरि,श्रीमहंत कमल भारती आदि ने भगवा ध्वज की स्थापना की। साथ ही वैदिक विद्वानों के मंत्रोच्चार के मध्य हवन,माॅ सरस्वती जी,माॅ गंगा की विशेष पूजा अर्चना की। अन्र्तराष्ट्रीय संरक्षक श्रीमहंत हरिगिरि महाराज ने सचिव श्रीमहंत मोहन भारती,श्रीमहंत महेशपुरी तथा थानापति नीलकंठ गिरि आदिके साथ ललतारौ में जूना अखाड़े की छावनी के लिए चल रहे कार्यो का भी निरीक्षण किया तथा कई आवश्यक निर्देश दिए। बताते चले कि यहां पर प्राचीन काल से ही नागा सन्यासियों का सन्यास दीक्षा व अन्य धार्मिक संस्कार होते चले आए है। यहां पर अखाडे के जखीरा,माल असवाब,रथ,पालकी होै,हाथी घोडे,टैªक्टर ट्राॅली व अन्य वाहन रखे जाते रहे है। यही से शाही  स्नान के लिए पालकियाॅ व बैडे सजक र शाही जुलूस में जाते है। सरस्वती पूजन तथा हवन में श्रीमहंत हरिगिरि महाराज के साथ साथ श्रीमहंत इन्दर भारती,श्रीमहंत विद्यानंद सरस्वती,श्रीमहंत उमाशंकर भारती,श्रीमहंत केदारपुरी,श्रीमहंत साधनानंद ब्रहमचारी,श्रीमहंत कमल भारती,कारोबारी महादेवानंद गिरि,पुजारी परमानंद गिरि सहित सैंकड़ो नागा सन्यासियों ने भाग लिया।