ट्रेवल्स कारोबारियों ने सिटी मजिस्ट्रेट कार्यालय पर किया प्रदर्शन

 हरिद्वार। कोरोना महामारी के कारण प्रदेश में लगे कोविड कर्फ्यू और चार धाम यात्रा स्थगित होने के कारण परेशान ट्रैवलर्स व्यवसाइयों ने आज सिटी मजिस्ट्रेट कार्यालय पहुंचकर सांकेतिक रूप से अपने वाहन सरकार को सरेंडर करें। हरिद्वार और ऋषिकेश के परिवहन महासंघ, टूर ऑपरेटर उत्तराखंड, टैक्सी-मैक्सी ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन से जुड़े लोगों ने शिवमूर्ति से पर्यटन और सिटी मजिस्ट्रेट कार्यालय तक सोशल डिस्टेंसिंग के साथ पैदल मार्च निकाला। ट्रेवल्स कारोबारियों ने सिटी मजिस्ट्रेट और जिला पर्यटन अधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजकर चारधाम यात्रा को अविलंब शुरू कर चैपट पड़े कारोबार को पुनः खड़ा करने की मांग की। ट्रेवल्स कारोबारियों ने चेतावनी दी कि यदि अब भी उनकी सुनवाई नहीं होती तो वे अपने वाहन सिटी मजिस्ट्रेट कार्यालय पर खड़े कर चाबियां कार्यालय में जमा कर देंगे। हरिद्वार ट्रेवल्स एसोसिएशन के महामंत्री अरविंद खनेजा ने कहा कि ट्रेवल्स कारोबार से जुड़ा हर एक व्यक्ति परेशान हो चुका है। काम धंधा पूरी तरह से चैपट है दो जून की रोटी तक वह अपने कर्मचारियों को मुहैया नहीं करा पा रहे हैं। हालात अब भूखों मरने के आ गए हैं। बीते साल महामारी को देखते हुए थोड़ा सब्र कर लिया था। इस बार फिर वैसे ही हालात हैं लेकिन सरकार का इस ओर कोई ध्यान नहीं है। अब सरकार को चार धाम यात्रा शुरू करने के साथ तमाम टैक्सी वाहनों का कम से कम 2 साल का कर, 2013 की केदारनाथ आपदा के समय शून्य किये गए करों की तरह इस बार व्यवस्था की जाए। पूर्व अध्यक्ष अभिषेक आहलूवालिया ने कहा कि सरकार सार्वजनिक यात्रा वाहनों के चालक-परिचालकों को एक मुश्त दी जाने वाली 2 हजार की धनराशि को बढ़ाकर 5 हजार करे। ऐसे पर्यटन वाहनों की आयु सीमा को दो साल और बढ़ाया जाए जो 31 मार्च 2020 से पूर्व पंजीकृत हैं। यदि अब भी परेशान ट्रेवल्स कारोबारियों की सुध सरकार ने न ली तो हम सभी अपने वाहन सिटी मजिस्ट्रेट कार्यालय पर न केवल खड़े कर देंगे बल्कि चाबी भी कार्यालय में जमा करा देंगे। विरोध दर्ज कराने वालों में अजीत कुमार, अर्जुन सैनी, गिरिराज भाटिया, विजय कुमार, बंटी भाटिया, संजय शर्मा, हरीश भाटिया, दीपक भल्ला, चंद्रकांत शर्मा, राजेश वोहरा, इकबाल सिंह, अवतार सिंह, गुरुचरण सिंह, आदेश पंडित सहित काफी संख्या में ट्रेवल्स व्यवसायी उपस्थित थे।


Comments