Skip to main content

विधि विधान से गंगा में प्रवाहित की गयी ब्रह्मलीन संत बाबा जोगिंदर सिंह की अस्थियां

 


हरिद्वार। ब्रह्मलीन संत बाबा जोगिंदर सिंह निर्मल आश्रम हरीपुरा संगरिया राजस्थान वालों की अस्थियां श्री पंचायती अखाड़ा निर्मल के संतो के संयोजन में कनखल स्थित सती घाट पर विधि विधान से गंगा में प्रवाहित की गई। सौ वर्ष से अधिक आयु पूरी कर चुके संत ब्रह्मलीन बाबा जोगिंदर सिंह महाराज की अस्थि कलश यात्रा निर्मल अखाड़े से बैण्ड बाजों के साथ बाजारों से होते हुए सती घाट पहुंची। सती घाट पर पूर्ण वैदिक विधान व मंत्रोच्चारण के साथ संतों ने अस्थियां गंगा में प्रवाहित की। अस्थि प्रवाह के बाद संतों ने अखाड़े में शब्द कीर्तन और अरदास कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। श्रद्धालु संगत को संबोधित करते हुए श्री पंचायती अखाड़ा निर्मल के अध्यक्ष श्रीमहंत ज्ञानदेव सिंह महाराज ने कहा कि संतों का जीवन सदैव परोपकार को समर्पित रहता है। ब्रह्मलीन संत बाबा जोगिंदर सिंह महाराज एक महान एवं तपस्वी संत थे। जिन्होंने शतायु होने पर भी धर्म एवं संस्कृति के प्रचार प्रसार के लिए अपना जीवन समर्पित किया और सनातन परंपराओं का निर्वहन करते हुए राष्ट्र निर्माण में अपना अहम योगदान दिया। ऐसे महापुरुषों को संत समाज सदैव स्मरण रखेगा। कोठारी महंत जसविंदर सिंह महाराज ने कहा कि ब्रह्मलीन बाबा जोगेंद्र सिंह महाराज का जीवन निर्मल जल के समान था। उनकी कार्यकुशलता और सहजता सभी के लिए प्रेरणादायक है। युवा संतो को उनके जीवन से प्रेरणा लेकर राष्ट्र एवं समाज उत्थान में अपना सहयोग प्रदान करना चाहिए। वास्तव में वह एक युगपुरुष थे। महंत शिवराज सिंह महाराज ने कहा कि महापुरुषों द्वारा प्रदान की गई शिक्षाएं अनंत काल तक समाज का मार्गदर्शन करती है और पूज्य गुरुदेव तो साक्षात त्याग एवं तपस्या की प्रतिमूर्ति थे। जिन्होंने धर्म के संरक्षण संवर्धन के लिए हमेशा ही भावी पीढ़ी को संस्कारवान बनाने का कार्य किया। महंत हरदेव सिंह महाराज ने कहा कि महापुरुष केवल शरीर त्यागते हैं। सभी को ऐसे महान संतों के जीवन से प्रेरणा लेते हुए राष्ट्र की एकता अखंडता बनाए रखनी चाहिए और धर्म व संस्कृति के प्रति युवाओं को जागृत करना चाहिए। क्योंकि धर्म के मार्ग पर अग्रसर रहने वाले लोगों की सदा विजय होती है। इस दौरान महंत प्यारा सिंह,महंत अमनदीप सिंह,महंत हरिसिंह,महंत हरबेअंत सिंह,महंत सुखदेव सिंह,महंत अवतार सिंह,महंत अजब सिंह,ज्ञानी महंत खेम सिंह, महंत निर्भय सिंह,संत तलविंदर सिंह,संत सुखमण सिंह,संत हरजोत सिंह,संत जसकरण सिंह, महंत मोहन सिंह,महंत तीरथ सिंह,स्वामी रविदेव शास्त्री,स्वामी हरिहरानंद,महंत गुरमीत सिंह, महंत निर्मल दास सहित कई संत महापुरुष उपस्थित रहे।


Comments

Popular posts from this blog

ऋषिकेश मेयर सहित तीन नेताओं को पार्टी ने थमाया नोटिस

 हरिद्वार। भाजपा की ओर से ऋषिकेश मेयर,मण्डल अध्यक्ष सहित तीन नेताओं को अनुशासनहीनता के आरोप में नोटिस जारी किया है। एक सप्ताह के अन्दर नोटिस का जबाव मांगा गया है। भारतीय जनता पार्टी ने अनुशासनहीनता के आरोप में ऋषिकेश की मेयर श्रीमती अनिता ममगाईं, ऋषिकेश के मंडल अध्यक्ष दिनेश सती और पौड़ी के पूर्व जिलाध्यक्ष मुकेश रावत को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी मनबीर सिंह चैहान के अनुसार पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक के निर्देश पर प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार ने नोटिस जारी किए हैं। नोटिस में सभी को एक सप्ताह के भीतर अपना स्पष्टीकरण लिखित रूप से प्रदेश अध्यक्ष अथवा महामंत्री को देने को कहा गया है।

अयोध्या,मथुरा,वृंदावन मे भी बनेगा महाजन भवन,नरेश महाजन बने उपाध्यक्ष

  हरिद्वार। उतरी हरिद्वार स्थित महाजन भवन मे आयोजित कार्यक्रम में अखिल भारतीय महाजन शिरोमणि सभा के सदस्यों ने महाजन भवन मे महाजन बिरादरी में से पठानकोट की मुकेरियां विधानसभा से भाजपा प्रत्याशी के तौर पर चुने गये विधायक जंगीलाल महाजन का जोरदार स्वागत किया। बताते चले कि जंगी लाल महाजन हरिद्वार महाजन भवन के चेयरमैन, तथा आल इंडिया महाजन शिरोमणी सभा के प्रैसिडेट पद पर भी महाजन बिरादरी की सेवा कर रहें हैं। इस अबसर पर अखिल भारतीय महाजन सभा के चेयरमैन व (पठानकोट) से भाजपा विधायक जंगीलाल महाजन ने कहा कि आल इंडिया महाजन सभा की पद्धति के अनुसार नरेश महाजन जो कि आल इंडिया सभा के सीनियर बाईस चेयरमैन भी है को हरिद्वार महाजन भवन में उपाध्यक्ष तथा हरीश महाजन को महामंत्री निुयुक्त किया। इस अबसर पर जंगी लाल महाजन ने कहा कि हम आशा ये दोनों मिलकर समितिया भी बनायेगे और अन्य सभाओं को जोडकर हरिद्वार महाजन भवन की उन्नति के लिए जो हमारे बुजुर्गों ने जो विरासत हमे दी है उसे आगे बढायेगे। हम चाहते हैं हरिद्वार महाजन भवन की तरह ही मथुरा,बृदांवन तथा अयोध्या मे भी भवन बने। उसके लिए ये दोनों अपना योगदान देगे। इसीलिए

स्वामी नारायण आश्रम में गुरु पूर्णिमा पर्व की तैयारियां शुरू

  हरिद्वार। सिदाश्रम साधक परिवार (निखिल मंत्र विज्ञान) के तत्वावधान में भूपतवाला स्थित स्वामी नारायण आश्रम में 12 एवं 13 जुलाई को गुरु पूर्णिमा महोत्सव का विशाल आयोजन किया जाएगा। परमहंस स्वामी निखिलेश्वरानंद (डा.नारायण दत्त श्रीमाली) व माता भगवती की दिव्य छत्र-छाया एवं पूज्य गुरुदेव नंदकिशोर श्रीमाली के सानिध्य में आयोजित किए जा रहे दो-दिवसीय महोत्सव की तैयारियों को लेकर मंगलवार को आश्रम में निखिल मंत्र विज्ञान के संयोजक मनोज भारद्वाज की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में गुरू पूर्णिमा महोत्सव की तैयारियों पर चर्चा की गयी। बैठक में कार्यक्रम के मीडिया प्रभारी विजय कुमार झा,गोपाल सैनी, डा.एम.के.तिवारी,शैलेन्द्र शैली,राकेश गुप्ता,नागेन्द्र सिंह,अमर उपाध्याय,लोकेश,बलवान सैनी आदि प्रमुख रूप से शामिल हुए। मनोज भारद्वाज ने बताया कि गुरु पूर्णिमा शिष्य और गुरु के मिलन का समारोह है। गुरु पूर्णिमा के अवसर पर शिष्य अपने पूज्य गुरुदेव के श्रीचरणों में अपना मनोभाव समर्पित करते हैं। उन्होंने बताया कि दो दिवसीय समारोह में देश-विदेश से हजारों की संख्या में आने वाले निखिल शिष्यों का समागम होगा। महोत्सव को