Skip to main content

कार्यो की गुणवत्ता के साथ समझौता नहीं होना चाहिये-विनय शंकर पाण्डेय

 जिलाधिकारी ने विभागों के प्रमुखों के साथ बैठक में किया सभी अधिकारियों को आगाह


हरिद्वारः जिलाधिकारी विनय शंकर पाण्डेय ने सभी विभागों के कार्यालय प्रमुखों को निर्देशित किया कि वे उनके विभाग द्वारा जो भी प्रमुख योजनायें,कार्यक्रम चलाये जा रहे हैं, उनकी वर्तमान में क्या स्थिति है, उनके क्रियान्वयन में कहां पर बाधा आ रही है, योजना भारत सरकार की है या राज्य सरकार की आदि बिन्दुओं को शामिल करते हुये, प्रत्येक विभाग एक प्रस्तुतीकरण देना सुनिश्चित करें। मंगलवार को कलेक्ट्रेट सभागार में जनपद स्तरीय अधिकारियों के साथ बैठक में जिलाधिकारी ने उन्होंने कहा कि आगामी सोमवार से दो घण्टे का कार्यक्रम रखा जायेगा, जिसमें प्रत्येक दिन पांच विभागों की समीक्षा रखी जायेगी। उन्होंने कहा कि इस समीक्षा में प्रत्येक विभाग को अपने विभाग के फ्लैशिप कार्यक्रमों,योजनाओं के बारे में समयबद्धता का ध्यान रखते हुये पूरी जानकारी देनी है। श्री पाण्डेय ने बैठक में अधिकारियों से कहा कि आने वाला समय हम सभी के लिये चुनौतीपूर्ण है। उन्होंने कहा कि कोविड की तीसरी लहर की संभावना व्यक्त की जा रही है, जिससे निपटने के लिये पूरी तैयारी रखनी है, निकट भविष्य में चुनाव भी हैं। जिलाधिकारी ने अधिकारियों से कहा कि आप अपना कार्य पूरे मनोयोग, पारदर्शिता एवं ईमानदारी से दबावमुक्त वातावरण में करिये। हमारा आपको पूरा सहयोग प्राप्त होगा। उन्होंने कहा कि कार्य की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान दें। कहीं पर भी कार्य की गुणवत्ता के साथ समझौता नहीं होना चाहिये। उन्होंने कहा कि कहीं से भी कोई शिकायत प्राप्त नहीं होनी चाहिये, अगर कहीं पर भी शिकायत सही पाई जाती है, तो सम्बन्धित के खिलाफ जीरो टालरेंस के तहत सख्त से सख्त कार्रवाई की जायेगी। बैठक में नगर आयुक्त, नगर निगम, हरिद्वार जय भारत सिंह ने मानव संसाधनों की कमी आदि के सम्बन्ध में जिलाधिकारी को जानकारी दी, नगर आयुक्त, नगर निगम, रूड़की, सुश्री नपूर वर्मा ने अतिक्रमण हटाने में पीआरडी होमगार्ड की सेवायें लेने के सम्बन्ध में चर्चा की, मुख्य शिक्षा अधिकारी डाॅ0 आनन्द भारद्वाज ने स्कूलों को सेनेटाइज करने आदि के सम्बन्ध में विचार-विमर्श किया। इस पर जिलाधिकारी ने मुख्य शिक्षा अधिकारी को निर्देश दिये कि बच्चों के स्वास्थ्य का पूरा ध्यान रखा जाये। प्रभागीय वनाधिकारी नीरज कुमार ने बन्दरों की समस्या की ओर ध्यान आकृष्ट कराते हुए बन्दरों को पकड़ने की व्यवस्था के सम्बन्ध में अवगत कराया। बैठक में कोविड प्रोटोकाल में युवाओं द्वारा लापरवाही बरतने, बहादराबाद एरिया में वेस्ट मैनेंजमेंट की समस्या के सम्बन्ध में भी विस्तृत चर्चा हुई। बैठक में हरिद्वार में शराब व ड्रग की समस्या के सम्बन्ध में विस्तृत चर्चा हुई। जिलाधिकारी ने मद्यनिषेध विभाग के अधिकारियों को इस सम्बन्ध में कार्रवाई करने के निर्देश दिये। जिला खनन अधिकारी रवि नेगी ने, गंगा नदी के कहीं-कहीं पर बहने का स्थान परिवर्तन करने पर प्रकाश डाला। इस पर जिलाधिकारी ने सभी पहलुओं का ध्यान रहते हुये खनन विभाग की ओर से पक्ष प्रस्तुत करने के निर्देश दिये। जिलाधिकारी को नगर आयुक्त, नगर निगम रूड़की ने तुलसी का पौधा भेंट किया। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी डाॅ0 सौरभ गहरवार, अपर जिलाधिकारी (प्रशासन) बी0के0 मिश्रा, अपर जिलाधिकारी (वित्त एवं राजस्व)के0के0 मिश्रा, ओ.सी कलक्ट्रेट गोपाल सिंह चैहान, महाप्रबन्धक जिला उद्योग केन्द्र सुश्री पल्लवी गुप्ता, जिला विकास अधिकारी पुष्पेन्द्र सिंह चैहान, अर्थ एवं संख्या अधिकारी पूरण सिंह तोमर, सहायक अर्थ एवं संख्या अधिकारी लक्ष्मीचन्द, जिला पंचायतराज अधिकारी रमेश चन्द्र त्रिपाठी, डीएसओ के0के0 अग्रवाल, सहायक निदेशक मत्स्य अनिल कुमार, अधिशासी अभियन्ता लोक निर्माण, दीपक कुमार, अधिशासी अभियन्ता जल निगम मौ0 मीशम, जिला कार्यक्रम अधिकारी देव सिंह, जिला बचत अधिकारी सुरेन्द्र सिंह पाल, जिला समाज कल्याण अधिकारी सहित समस्त जिला स्तरीय अधिकारीगण उपस्थित थे।

Comments

Popular posts from this blog

गौ गंगा कृपा कल्याण महोत्सव का आयोजन किया

  हरिद्वार। कुंभ में पहली बार गौ सेवा संस्थान श्री गोधाम महातीर्थ पथमेड़ा राजस्थान की ओर से गौ महिमा को भारतीय जनमानस में स्थापित करने के लिए वेद लक्ष्णा गो गंगा कृपा कल्याण महोत्सव का आयोजन किया गया है।  महोत्सव का शुभारंभ उत्तराखंड गौ सेवा आयोग उपाध्यक्ष राजेंद्र अंथवाल, गो ऋषि दत्त शरणानंद, गोवत्स राधा कृष्ण, महंत रविंद्रानंद सरस्वती, ब्रह्म स्वरूप ब्रह्मचारी ने किया। महोत्सव के संबध में महंत रविंद्रानंद सरस्वती ने बताया कि इस महोत्सव का उद्देश्य गौ महिमा को भारतीय जनमानस में पुनः स्थापित करना है। गौ माता की रचना सृष्टि की रचना के साथ ही हुई थी, गोमूत्र एंटीबायोटिक होता है जो शरीर में प्रवेश करने वाले सभी प्रकार के हानिकारक विषाणुओ को समाप्त करता है, गो पंचगव्य का प्रयोग करने से शरीर की रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है, शरीर मजबूत होता है रोगों से लड़ने की क्षमता कई गुना बढ़ाता है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में वैश्विक महामारी ने सभी को आतंकित किया है। परंतु जिन लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत है। कोरोना उनका कुछ नहीं बिगाड़ पाता है। उन्होंने गो पंचगव्य की विशेषताएं बताते हुए कहा कि वर्तमा

माता पिता की स्मृति में समाजसेवी राकेश विज ने किया अन्न क्षेत्र का शुभारंभ

हरिद्वार। समाजसेवी और हिमाचल प्रदेश प्रदेश के पालमपुर रोटरी क्लब के अध्यक्ष राकेश विज ने बताया कि महाकुंभ के अवसर पर श्रद्धालुओं की सुविधार्थ संत बाहुल्य क्षेत्र सप्त ऋषि आश्रम में अन्न क्षेत्र का शुभारंभ नगर पालिका के पूर्व अध्यक्ष सतपाल ब्रह्मचारी के कर कमलों के द्वारा किया गया है। यह अन्न क्षेत्र पूरे कुंभ तक अनवरत रूप से चलेगा। उन्होंने बताया कि मानवता सबसे बड़ी पूजा है मानव धर्म ही हमें जोड़ता है। अन्नदान की परंपरा हमारी वैदिक परंपरा है। अन्न क्षेत्र का आयोजन उन्होंने अपनी माता त्रिशला रानी और पिता लाला बनारसी दास की स्मृति में कराया है। उन्होंने बताया कि गुरूद्वारा गुरू सिंह सभा में भी 7 मार्च से रोजाना लंगर का आयोजन किया जा रहा है। 14 मार्च से इच्छाधारी नाग मंदिर बीएचएल हरिद्वार में भी अन्न क्षेत्र शुरू किया जाएगा। इसके अलावा कनखल स्थित सती घाट के समीप निर्माणाधीन गुरु अमरदास गुरुद्वारे और एसएमएसडी इंटर कॉलेज में पंडित अमर नाथ की स्मृति में बनने वाले पुस्तकालय में भी सहयोग प्रदान करेंगे। उन्होंने कहा कि महापुरुषों के रास्ते पर चलकर ही हम देश को समृद्ध कर सकते है। इस अवसर पर सतपाल

ऋषिकेश मेयर सहित तीन नेताओं को पार्टी ने थमाया नोटिस

 हरिद्वार। भाजपा की ओर से ऋषिकेश मेयर,मण्डल अध्यक्ष सहित तीन नेताओं को अनुशासनहीनता के आरोप में नोटिस जारी किया है। एक सप्ताह के अन्दर नोटिस का जबाव मांगा गया है। भारतीय जनता पार्टी ने अनुशासनहीनता के आरोप में ऋषिकेश की मेयर श्रीमती अनिता ममगाईं, ऋषिकेश के मंडल अध्यक्ष दिनेश सती और पौड़ी के पूर्व जिलाध्यक्ष मुकेश रावत को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी मनबीर सिंह चैहान के अनुसार पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक के निर्देश पर प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार ने नोटिस जारी किए हैं। नोटिस में सभी को एक सप्ताह के भीतर अपना स्पष्टीकरण लिखित रूप से प्रदेश अध्यक्ष अथवा महामंत्री को देने को कहा गया है।