मारपीट के मामले में जमानत मिलने के बाद दस साल से फरार दो वांछित गिरफ्रतार

 हरिद्वार। थाना कनखल पुलिस ने पिछले दस साल से फरार चल रहे दो वांछितं को दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने दोनों को न्यायालय में पेश करने के बाद जेल भेज दिया। पुलिस के अनुसार दोनों मारपीट के मामले में जमानत के बाद दस साल से फरार थे। कनखल पुलिस के मुताबिक राजीव शर्मा निवासी शाहपुर पटोरी थाना समस्तीपुर व संजय शर्मा निवासी गांव मुख्तियारपुर थाना दलसिंह सराब जिला समस्तीपुर बिहार को दस वर्ष पूर्व कनखल पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। आरोपी जमानत मिलने के बाद फरार हो गए थे। न्यायिक मजिस्ट्रेट द्वितीय श्रेणी हरिद्वार में संजय शर्मा व राजीव शर्मा के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किए। एसएसपी सेंथिल अवूदई कृष्णराज एस ने गैस जमानती वारंट तामील कराने के निर्देश कनखल थानाध्यक्ष को दिए। थानाध्यक्ष ने दो पुलिस टीमें बनाते हुए वारंटियों की गिरफ्तार के लिए लगाई गई। राजीव शर्मा के फरीदाबाद में रहने की जानकारी पुलिस को मिली। जबकि उसकी लोकेशन दिल्ली के सरिता विहार थाना के अलीबाग क्षेत्र में थी। पुलिस ने दिल्ली में दबिश देते हुए आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। दूसरे आरोपी संजय शर्मा की लोकेशन दिल्ली के लक्ष्मीनगर में मिलने पर तलाश शुरू की। जिसके बाद संजय शर्मा को भी पुलिस ने राजीव शर्मा की ही लोकेशन पर गिरफ्तार किया। थाना प्रभारी कमल कुमार लुंठी के अनुसार दोनों आरोपियों को हरिद्वार लेकर आने के बाद कोर्ट में पेश किया गया है। वही दूसरी ओर कनखल पुलिस ने कुंभ मेला क्षेत्र को भिखारी मुक्त करने के लिए दक्ष मंदिर गेट के पास से आठ भिखारियों को पकड़ा है। कनखल थाना प्रभारी कमल कुमार लुंठी के अनुसार दक्ष मन्दिर गेट के पास श्रद्धालुओं से जबरदस्ती भीख मांग रहे आठ भिखारियों को मेला पुलिस की संयुक्त टीम ने पकड़ा। नागराज निवासी ओडिशा, चमनलाल निवासी कनखल, जगदीश निवासी पीलीभीत, नन्द किशोर निवासी बडौत जिला बागपत, दयाराम निवासी कांगड़ा थाना श्यामपुर, सीताराम दास निवासी पश्चिम बंगाल, दुर्गा मण्डल निवासी पश्चिम बंगाल, आशालता मण्डल निवासी पश्चिम बंगाल को भिक्षावृत्ति अधिनियम के तहत गिरफ्तार किया गया। पुलिस टीम में एसआई शम्भू सिंह सजवाण, सतेन्द्र भंडारी, संजय धनइ, अरविन्द, तनुजा शामिल रहे।


Comments