Skip to main content

जोशीमठ के भविष्य पर स्वामी शिवानंद ने उठाये सवाल,उत्तराखंडवासियों पर को ठहराया जिम्मेदार

 


हरिद्वार। जोशीमठ आपदा पर मातृ सदन के संस्थापक स्वामी शिवानंद महाराज ने कहा कि अभी जोशीमठ की अवस्था से अधिकांश लोग वाकिफ है। वहां भू-धसाव हो रहा है, मकान फट रहे हैं, जमीनें फट रहीं हैं, रोड पर दरार हो रहा है। कब जोशीमठ धंस जाएगा,यह किसी को पता नहीं। कारण ? अब प्रशासन को यह मानने के लिए बाध्य होना पड़ रहा है कि जो नीचे से सुरंग जा रही है, उसी के चलते जोशीमठ की यह अवस्था है, और अब कहना कठिन है कि जोशीमठ बचेगा या नहीं ? अब प्रश्न उठता है कि मातृ सदन इस बात को कई वर्षों से उठा रही है,सानंद जैसे वैज्ञानिक ने इन परियोजनाओं को बंद करने की बात कही थी। उसमें एक तपोवन विष्णुगौड़ परियोजना भी थी। यदि उसी वक्त इस परियोजना को बंद कर दिया गया होता, तो आज यह अवस्था नहीं आती। इसी बात के लिए स्वामी सानंद को मार दिया गया, ब्रह्मचारी आत्मबोधानंद के 194 दिन के अनशन के दौरान जो प्रधानमंत्री की ओर से वादा किया गया था, उसको पूरा नहीं किया गया। उसके बाद साध्वी पद्मावती जी तपस्या पर बैठीं, लेकिन उन्हें भी विष देकर व्हीलचेयर पर बैठा दिया। तो इस ढंग से पाप पर पाप किये जा रहे हैं और अभी तक शासन-प्रशासन को इसकी चेतना नहीं हो रही है ? इतना ही नहीं, इसमें उत्तराखंड वासियों का भी दोष है। जब आवाज किसी संत के द्वारा उठता है, किसी आश्रम के द्वारा उठता है,जो आज जो जोशीमठ के लोग उत्तेजित होकर रोड पर निकल आए, यदि उस समय निकल आते, तो आज यह स्थिति नहीं होती। अभी भी जोशीमठ में प्रशासन ने अग्रिम आदेश तक अस्थायी रूप से निर्माण कार्य बंद किये हैं,फिर क्या पता आगे खोल दें ?और सबसे बड़ी बात है कि आज के इंजीनियर सरकारी आदेश पर काम करते हैं। 7 करोड़ रुपये में गंगाजी पर रिसर्च करने के लिए दिया गया। इनके सुझाव को सरकार के खरीदे गए मात्र 3-4 इंजीनियर द्वारा काट दिया गया और सरकार ने उन्हीं को मान लिया। जब देश की व्यवस्था ऐसी हो जाएगी, पहले नीचे से सुझाव जाते थे, तब ऊपर कोई काम होता था,लेकिन अब ऊपर से आदेश होता है, तद्नुसार सुझाव भेजे जाते हैं, चाहे वो इंटेलिजेंस हो, या इंजीनियरिंग विभाग हो। इसलिए पुनः यह कहना आवश्यक है,आप मातृ सदन की आवाज को पूर्व में भी देख लें, जितने भी निर्माणाधीन या निर्मित बांध हैं गंगाजी पर, उन सबको तत्काल रोक दें। इधर गंगा में खनन की विभीषिका को देखिए-राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन का पर्यावरण संरक्षण अधिनियम की धारा 5 के तहत आदेश है, लेकिन हाई कोर्ट में दलील दी जा रही है कि कि प्रतिबंध है, यह अत्यंत शोचनीय है। तो यदि उत्तराखंड को बचाना हो तो इन दरिंदों से बचाना होगा, इन भ्रष्ट नेताओं से बचाना होगा, जिन इंजीनियरों ने इस प्रोजेक्ट का सुझाव भेजा था और कहा था कुछ नहीं होगा, उन इंजीनियरों पर पहले एक्शन हो क्योंकि यहाँ काम हो जाता है,लेकिन उसके लिए जो उत्तरदायी संस्था है, उसके लिए कुछ नहीं कहा जाता है। 2013 में इन्हीं परियोजनाओं को बंद करवाने के लिए जब मातृ सदन टोक हड़ताली गांव में थी, तब इन्हीं अवैध खनन के गुंडों ने हमें घेर लिया था। पहले ये देव नगरी में छोटी सी छोटी बात से लोग अनुमान लगा लेते थे कि देव या ईश्वर या प्रकृति क्या चाह रही है,वहाँ अब ऐसी स्थिति उत्पन्न हो गयी है। तो यदि उत्तराखंड में हो रही त्रासदियों से बचना है,जो मातृ सदन से जो-जो आवाज उठ रही है, उसका अक्षरशः पालन करें, वरना गंभीर परिणाम भुगतने के लिए तैयार रहें।


Comments

Popular posts from this blog

धूमधाम से गंगा जी मे प्रवाहित होगा पवित्र जोत,होगा दुग्धाभिषेक -डॉ0नागपाल

 112वॉ मुलतान जोत महोत्सव 7अगस्त को,लाखों श्रद्वालु बनेंगे साक्षी हरिद्वार। समाज मे आपसी भाईचारे और शांति को बढ़ावा देने के संकल्प के साथ शुरू हुई जोत महोसत्व का सफर पराधीन भारत से शुरू होकर स्वाधीन भारत मे भी जारी है। पाकिस्तान के मुल्तान प्रान्त से 1911 में भक्त रूपचंद जी द्वारा पैदल आकर गंगा में जोत प्रवाहित करने का सिलसिला शुरू हुआ जो आज भी अनवरत 112वे वर्ष में भी जारी है। इस सांस्कृतिक और सामाजिक परम्परा को जारी रखने का कार्य अखिल भारतीय मुल्तान युवा संगठन बखूबी आगे बढ़ा रहे है। संगठन अध्यक्ष डॉ महेन्द्र नागपाल व अन्य पदाधिकारियो ने रविवार को प्रेस क्लब में पत्रकारों से  मुल्तान जोत महोत्सव के संबंध मे वार्ता की। वार्ता के दौरान डॉ नागपाल ने बताया कि 7 अगस्त को धूमधाम से  मुलतान जोट महोत्सव सम्पन्न होगा जिसके हजारों श्रद्धालु गवाह बनेंगे। उन्होंने बताया कि आजादी के 75वी वर्षगांठ पर जोट महोत्सव को तिरंगा यात्रा के साथ जोड़ने का प्रयास होगा। श्रद्धालुओं द्वारा जगह जगह सुन्दर कांड का पाठ, हवन व प्रसाद वितरण होगा। गंगा जी का दुग्धाभिषेक, पूजन के साथ विशेष ज्योति गंगा जी को अर्पित करेगे।

बी0ई0जी0 आर्मी तैराक दलों ने 127 कांवडियों,श्रद्धालुओं को गंगा में डूबने से बचाया

  हरिद्वार। जिलाधिकारी विनय शंकर पाण्डेय के निर्देशन, अपर जिलाधिकारी पी0एल0शाह के मुख्य संयोजन एवं नोडल अधिकारी डा0 नरेश चौधरी के संयोजन में कांवड़ मेले के दौरान बी0ई0जी0 आर्मी के तैराक दल अपनी मोटरबोटों एवं सभी संसाधनों के साथ कांवडियों की सुरक्षा के लिये गंगा के विभिन्न घाटों पर तैनात होकर मुस्तैदी से हर समय कांवड़ियों को डूबने से बचा रहे हैं। बी0ई0जी0 आर्मी तैराक दल द्वारा कांवड़ मेला अवधि के दौरान 127 शिवभक्त कांवडियों,श्रद्धालुओं को डूबने से बचाया गया। 17 वर्षीय अरूण निवासी जालंधर, 24 वर्षीय मोनू निवासी बागपत, 18 वर्षीय अमन निवासी नई दिल्ली, 20 वर्षीय रमन गिरी निवासी कुरूक्षेत्र, 22 वर्षीय श्याम निवासी सराहनपुर, 23 वर्षीय संतोष निवासी मुरादाबाद, 18 वर्षीय संदीप निवासी रोहतक आदि को विभिन्न घाटों से बी0ई0जी0 आर्मी तैराक दल द्वारा गंगा में डूबने से बचाया गया तथा साथ ही साथ प्राथमिक उपचार देकर उन सभी कांवडियों को चेतावनी दी गयी कि गंगा में सुरक्षित स्थानों में ही स्नान करें। कांवड़ मेला अवधि के दौरान बी0ई0जी0आर्मी तैराक दल एवं रेड क्रास स्वयंसेवकों द्वारा गंगा के पुलों एवं घाटों पर माइकिं

अयोध्या,मथुरा,वृंदावन मे भी बनेगा महाजन भवन,नरेश महाजन बने उपाध्यक्ष

  हरिद्वार। उतरी हरिद्वार स्थित महाजन भवन मे आयोजित कार्यक्रम में अखिल भारतीय महाजन शिरोमणि सभा के सदस्यों ने महाजन भवन मे महाजन बिरादरी में से पठानकोट की मुकेरियां विधानसभा से भाजपा प्रत्याशी के तौर पर चुने गये विधायक जंगीलाल महाजन का जोरदार स्वागत किया। बताते चले कि जंगी लाल महाजन हरिद्वार महाजन भवन के चेयरमैन, तथा आल इंडिया महाजन शिरोमणी सभा के प्रैसिडेट पद पर भी महाजन बिरादरी की सेवा कर रहें हैं। इस अबसर पर अखिल भारतीय महाजन सभा के चेयरमैन व (पठानकोट) से भाजपा विधायक जंगीलाल महाजन ने कहा कि आल इंडिया महाजन सभा की पद्धति के अनुसार नरेश महाजन जो कि आल इंडिया सभा के सीनियर बाईस चेयरमैन भी है को हरिद्वार महाजन भवन में उपाध्यक्ष तथा हरीश महाजन को महामंत्री निुयुक्त किया। इस अबसर पर जंगी लाल महाजन ने कहा कि हम आशा ये दोनों मिलकर समितिया भी बनायेगे और अन्य सभाओं को जोडकर हरिद्वार महाजन भवन की उन्नति के लिए जो हमारे बुजुर्गों ने जो विरासत हमे दी है उसे आगे बढायेगे। हम चाहते हैं हरिद्वार महाजन भवन की तरह ही मथुरा,बृदांवन तथा अयोध्या मे भी भवन बने। उसके लिए ये दोनों अपना योगदान देगे। इसीलिए