डा0 अम्बेडकर के विचारों को आत्मसात कर समाज के लिए कार्य करने की आवश्यकता

हरिद्वार। अंबेडकर जन्मोत्सव समिति की ओर से अंबेडकर नगर में डा.भीमराव अंबेडकर की 129वीं जयंती पर उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए समाजोत्थान में योगदान करने का संकल्प व्यक्त किया गया। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का भी पूरा ध्यान रखा गया। इस अवसर पर समिति के संयोजक पार्षद नेपाल सिंह व अध्यक्ष विशाल राठौर ने कहा कि समान अधिकारों की वकालत करने वाले बाबा साहेब डा.भीमराव अंबेडकर कानून और अर्थशास्त्र के प्रकाण्ड विद्वान थे। उन्होंने कोलंबिया विश्वविद्यालय और लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स से अर्थशास्त्र में डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने भारत के राज्य को पुरातन मान्यताओं और विचारों से मुक्त करने के लिए अर्थशास्त्र में अपनी मजबूत पकड़ का इस्तेमाल किया। डा.अंबेडकर का मानना था कि भाग्य के बजाए शिक्षा और अपनी मेहनत पर विश्वास करना चाहिए। तभी जीवन में आगे बढ़ा जा सकता है। तत्कालीन समाज में फैली छुआछूत के खिलाफ उनका संघर्ष समाज को आज भी प्रेरणा देता है। सभी को उनके विचारों को आत्मसात कर रूढ़िवादिता के खिलाफ एकजुटता से कार्य करने की आवश्यकता है। नमन करने वालों में समिति के उपाध्यक्ष अजीत सिंह, योगेश कुमार, कोषाध्यक्ष सुमित कुमार, राजेंद्र देवल, बेगराज सिंह, पूर्व पार्षद निशा देवी, संजय कुमार, मोदी तेग्वाल, जगराम, जयपाल, सुशील कुमार, रामपाल सिंह, भोपाल सिंह, शिवदत्त आदि शामिल रहे।