दो किमी ले जाने पर एम्बूलेंस चालक पर आठ सौ रूपये लेने का आरोप

हरिद्वार। जहां एक ओर कोरोना के खिलाफ जंग में सरकार, शासन, प्रशासन, सामाजिक संस्थाओं के साथ आम आदमी कंधे से कंधा मिलाकर शामिल हैं। वहीं कुछ ऐसे भी हैं जो लोगों की मजबूरी का फायदा उठा रहे हैं। ऐसा ही एक केस हरिद्वार में सामने आया। जब एक एंबुलेंस चालक की ओर से गौतम फार्म हाउस से अर्थी को कनखल शमशान घाट छोडने के एवज में आठ सौ रुपए ले लिए गए। मजबूरी में पीडित परिवार को पैसे देने पडे। पत्रकार विक्की सैनी के पिता का लंबी बिमारी के बाद गुरुवार नौ मार्च की दोपहर निधन हो गया था। परिजनों को अंतिम संस्कार के लिए अंतिम यात्रा वाहन उपलब्ध नहीं हो सका। गंगा सभा अपना अंतिम यात्रा वाहन देने के लिए राजी हो गई थी। लेकिन अनुमति में समय जाया करने के बजाए पत्रकार विक्की सैनी ने एक निजी एंबुलेंस से संपर्क किया। लेकिन जब एंबुलेंस समय से नहीं आई। तो परिवार के लोग और करीबी दोस्त और पडोसी अर्थी को कंधों पर लेकर ही चल दिए। कनखल पुलिया पार करने के बाद गौतम फार्म हाउस के करीब पहुंचने पर एंबुलेंस पहुंची। एंबुलेंस से अर्थी को शमशान घाट कनखल पहुंचाया गया। इसके एवज में चालक ने आठ सौ रुपए ले लिए। पत्रकार विक्की सैनी ने बताया कि एंबुलेंस चालक ने गौतम फार्म हाउस से शमशान घाट तक के आठ सौ रुपए ले लिए। जबकि चालक से आग्रह भी किया गया था, लेकिन वो नहीं माना। उन्होंने कहा कि मजबूरी में इस तरह से फायदा उठाना ठीक नहीं है।