गरीबों को राशन देने के दौरान हंगामा,सैक्टर मजिस्ट्रेट ने रोका अनाज वितरण

हरिद्वार। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए लागू देशव्यापी लॉक डाउन के दौरान गरीब लोगों को सरकारी राशन बांटने को लेकर हुए विवाद में पार्षद पति एवं स्थानीय युवक के साथ हुई झपड़ के बाद हंगामा हो गया। मौके पर मौजूद सेक्टर मजिस्ट्रेट ने राशन वितरण का काम बंद करा दिया। पार्षद पति के विरुद्ध सेक्टर मजिस्ट्रेट द्वारा मुकदमा दर्ज कराया जाने की बात कही जा रही है। बताते चलें कि गोविंदपुरी से लगे राजीव कॉलोनी में राजस्व विभाग के एक पटवारी द्वारा सरकारी राशन गरीबों को बांटने के लिए ले जाया गया था जहां पर पार्षद पति द्वारा हस्तक्षेप करते हुए कुछ अपने द्वारा गरीब लोगों की दी गई लिस्ट के आधार पर राशन दिलाने का प्रयास किया गया जिसको देखते ही वहां पर सैकड़ों की संख्या में लोग इकट्ठा हो गए और सरकारी राशन की मांग करने लगे सोशल डिस्टेंसिंग का अनुपालन ना होता देख इसकी सूचना जब सेक्टर मजिस्ट्रेट रविंद्र कुमार बसेड़ा को मिली तो वह मौके पर पहुंच गए और उन्होंने नियमानुसार गरीब लोगों को राशन बांटने की बात कहीं। अभी सेक्टर मजिस्ट्रेट व पटवारी मामले को निपटाने का प्रयास कर रहे थे। आरोप है कि इतने में गोविंदपुरी क्षेत्र के पार्षद पति प्रीत कमल द्वारा सेक्टर मजिस्ट्रेट के साथ अभद्रता करना शुरू कर दी गई। इस पर वहां मौजूद पुलिसकर्मी व होमगार्ड के जवानों ने प्रीत कमल को समझाने का प्रयास किया, लेकिन उनके द्वारा आक्रोशित होकर अभद्र भाषा का प्रयोग किया गया। इस पर वहां मौजूद लोगों व पार्षद पति प्रीत कमल में जमकर हाथापाई हो गई। सेक्टर मजिस्ट्रेट रविंद्र कुमार बसेड़ा ने अपने उच्च अधिकारियों को अवगत कराते हुए पार्षद पति के विरुद्ध कानूनी कार्रवाई करने की बात भी गई। पार्षद पति प्रीत कमल ने बताया कि उनके क्षेत्र के लाभ 100 गरीब लोगो की आधार कार्ड के अनुसार सुविधा मुहैया कराने के लिए लिस्ट दी गई थी। लेकिन पटवारी द्वारा लगभग 27 लोगों का राशन लाया गया, जिस पर आपत्ति करने पर पटवारी को बताया गया कि जिन लोगों का राशन आया है, उन्हें सत्यापित कर मुहैया कराया जाए,ताकि भीड़ जमा ना हो जिसको लेकर वहां मौजूद एक कांग्रेसी कार्यकर्ता द्वारा मेरे से बदसलूकी की गई।