कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए जनता के सहयोग की आवश्यकता

हरिद्वार। श्री पंचायती अखाड़ा निर्मल के कोठारी महंत जसविन्दर सिंह महाराज ने कहा कि मानव जाति संकट से जूझ रही है। इस संकट से उबरने के लिए रणनीति के तहत कार्य किए जाएं। उक्त उद्गार जसविन्दर सिंह महाराज ने अखाड़े में जरूरतमंदों को राशन वितरण के दौरान व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि सरकार के लाॅकडाउन का पालन सही रूप से तभी किया जा सकता है। जब निर्धन असहाय बेसहारा मजूदर वर्गो को उनके घरों तक ही जरूरत की वस्तुएं प्रदान की जाएं। इस संकट की घड़ी में संत महापुरूषों का योगदान तो चला आ रहा है। अन्य लोगों को भी सहयोग प्रदान करना चाहिए। प्रशासन के सहयोग से गरीब बेसहारा लोगों को खाद्य सामग्री मुहैया करायी जा रही है। महंत जसविन्दर सिंह ने कहा कि कोरोना वायरस को समाप्त करने में मात्र जनता के सहयोग की आवश्यकता है। राज्य की त्रिवेंद्र सरकार राज्य वासियों के लिए जो दिशा निर्देश दे रही है। उसका पालन प्रत्येक नागरिक को करना होगा। पालन करने से ही संकट की इस घड़ी को दूर किया जा सकता है। महंत सतनाम सिंह महाराज ने कहा कि श्री पंचायती निर्मल अखाड़ा देश भर में सेवा के प्रकल्पों से ही जाना जाता है। सभी का कर्तव्य बनता है कि मानवता का संदेश देते हुए गरीब बेसहारों की दिल खोलकर मदद करें। महंत अमनदीप सिंह महाराज ने कहा कि सेवा कार्यो से ही आश्रम अखाड़ों की पहचान है। जरूरतमंदो को सहायता पहुंचाना हमारा नैतिक कर्तव्य बनता है। अखाड़े के माध्यम से प्रतिदिन खाद्य सामग्री प्रशासन को सौंपी जा रही है। खाने के पैकेट भी निर्धन परिवारों को दिए जा रहे हैं। इस अवसर पर महंत सुखमन सिंह, संत जसकरण सिंह, महंत निर्मल सिंह, महंत खेमसिंह, संत तलविन्दर सिंह आदि मौजूद रहे।