मण्डलायुक्त के साथ पुलिस महानिरीक्षक ने लिया व्यवस्थाओं का जायजा


हरिद्वार।लाॅकडाउन-2 के दूसरे दिन गढ़वालमण्डलायुक्त के साथ पुलिस महानिरीक्षक गढ़वाल ने जनपद में कोविड-19 कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के दृष्टिगत किये गये उपायों का जायजा लिया। इस दौरान अधिकारियों ने क्वांरटाइन किये गये गांवों तथा राहत शिविरों का भी जायजा लिया। हरिद्वार जिले में अब तक कोरोना पॉजिटिव के 5 मामले सामने आ चुके हैं। इसमें भगवानपुर के मानक मजरा, रुड़की के पनियाला और लक्सर के बहादुरपुर गांव के तीन लोग शामिल हैं। इसके अलावा हरिद्वार के ज्वालापुर में भी 2 मामले सामने आए थे । यह सभी लोग जमात से जुड़े हुए हैं। जिन क्षेत्रों में मामले मिले उन क्षेत्रों को प्रशासन ने सील कर पूरी तरीके से लॉकडाउन कर दिया था। गुरूवार को गढ़वालमण्डलायुक्त रविनाथ रमन तथा पुलिस महानिरीक्षक  गढ़वाल अजय रौतेला ने जनपद में कोरोना संक्रमण की दृष्टिगत जिला प्रशासन के द्वारा किये जा रहे बचाव और सुरक्षा उपायों को जांचने के लिए प्रभावित इलाकों का दौरा किया। इस दौरान अधिकारी द्वय ने जिले में संक्रमण की स्थिति पर नियंत्रण के उपायों की जानकारी भी संबंधित क्षेत्रों के एसडीएम से ली। स्वास्थ्य और चिकित्सा विभाग द्वारा बनायी गयी टीमों के अधिकारियों से भी वास्तविक हालातों पर चर्चा की। श्री रमन ने स्वास्थ्य कर्मियों को इन क्षेत्रों में काम करनेे के दौरान सामने आनेवाले समस्याओं के बारे में भी पूछा। मण्डलायुक्त ने रूड़की लक्सर, भगवानपुर में बनाये गये राहत शिविरों का निरीक्षण किया। उन्होने यहां रखे गये बाहरी लोगों के लिए की गयी खाने पीने मनोरंजन की व्यवस्थाओं को जानने के लिए ठहरे हुए लोगों से बात की। सभी ने भोजन ठहरने, स्वास्थ्य जांच को लेकर कोई भी कमी नहीं बतायी। सभी ने कमिश्नर से वापस अपने गंतव्यों को भेजने की मांग की। इस पर श्री रमन ने सभी को आश्वस्त किया कि जैसे ही परिस्थितियां पूरी तरह राज्य सरकार और जिला प्रशासन के नियंत्रण में नजर आती है वेैसे ही आप लोगों को वापस भेजने की कार्यवाही शुरू कर दी जायेगी। उन्होने कहा आप इसे किसी प्रकार की बंदिश न समझते हुए स्वेच्छा से लाॅकडाउन का पालन करें और हालात सामन्य होने तक धैर्य बनाये रखें। इसके अलावा कलियर का भी निरीक्षण किया। यहां करीब 500 जमाती क्वारन्टीन किये गए हैं। इस अवसर पर उनके साथ वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सेंथिल अबुदई, अपर जिलाधिकारी कृष्णकुमार मिश्र, सहित संबंधित तहसीलों के उप जिलाधिकारी मौजूद रहे।