सादगी से ही मनायी गयी हनुमान जयंती,कोरोना समाप्ति को हनुमान कवच का पाठ

हरिद्वार। कोरोना वायरस के चलते धर्मनगरी में हनुमान जयंती सादगी के साथ घरों में ही मनाई गई। लोगों ने हनुमान चालीसा का पाठ करके कोरोना संकट को दूर करने की प्रार्थना की। हरकी पैड़ी क्षेत्र के हनुमान घाट के पास प्राचीन हनुमान मंदिर में हनुमान जयंती का पर्व सादगी के साथ मनाया गया। मंदिर के महंत रविपुरी महाराज ने बताया कि जयंती पर बिना श्रद्धालुओं के पूर्जा की गई। बताया कि पहले के सालों में जयंती पर हजारों श्रद्धालु भंडारे में प्रसाद ग्रहण करते थे, बजारों से धूमधाम के साथ शोभायात्रा निकाली जाती थी, लेकिन इस बार बिना श्रद्धालुओं के पूजा-अर्चना के बाद हनुमान को लड्डुओं और फलों का भोग लगाया गया। गरीबों को प्रसाद के रूप में फल बांटे गए। लोगों ने घरों में ही पूजा-अर्चना कर हनुमान जयंती मनाई। धर्मनगरी के प्राचीन अवधूत मंडल आश्रम में स्थित हनुमान मंदिर, कुशावर्त घाट के निकट स्थित प्राचीन सिद्ध हनुमान मंदिर, निरंजनी अखाड़े के हनुमान मंदिर, बिरला घाट के पास स्थित हनुमान मंदिर, पंचमुखी हनुमान मंदिर के दरवाजे बंद रहे। देश की रक्षा करने की प्रार्थना की गयी। अखंड परशुराम अखाड़ा के अध्यक्ष पंडित अधीर कुमार कौशिक ने हनुमान के जन्मोत्सव पर अपने घर में ही रहकर हनुमान के चित्र के समक्ष दीप जलाकर पंचमुखी हनुमान कवच का पाठ किया। इस दौरान उन्होंने कोराना जैसी भयंकर बीमारी के समूल नष्ट की प्रार्थना हनुमानजी से की।