पंजाबी समाज ने राष्टपति को ज्ञापन भेजकर की त्रिपुरा सरकार को बर्खास्त करने की मांग

हरिद्वार। त्रिपुरा के मुख्यमंत्री के द्वारा सिख व पंजाबी समाज के लिए की गई आपत्तिजनक टिप्पणी के खिलाफ उत्तरांचल पंजाबी महासभा के जिला अघ्यक्ष प्रवीण कुमार के नेतृत्व में देश के राष्ट्रपति के नाम एक ज्ञापन सिटी मजिस्ट्रेट के माध्यम से प्रेषित किया गया। पंजाबी समाज ने ज्ञापन में मांग करते हुए त्रिपुरा के मुख्यमंत्री को बर्खास्त करने की मांग की है। पंजाबी समाज द्वारा गहरा रोष प्रकट करते हुए महासभा के वरिष्ठ उपाध्यक्ष सतीश भाटिया व युवा अध्यक्ष शेखर सतीजा ने कहा कि अपनी संकीर्ण राजनीति के कारण त्रिपुरा के मुख्यमंत्री ने जिस प्रकार देश की सबसे बहादुर व देश के उत्थान मे सर्वाधिक योगदान करने वाली कौम पर टिप्पणी की है वह नाकाबिले बर्दाशत है। उन्होनों कहा कि मुख्मंत्री ने गलत बयानबाजी देकर पंजाबी समाज की भावनाओं को आहत किया है। जिससे किसी भी सुरत मे सहन नही किया जायेगा। जिला महामंत्री प्रदीप कालरा व चेयरमैन डा.संदीप कपूर ने पंजाबी समाज के खिलाफ की गई अमर्यादित टिप्पणी को भारत के संविधान के विरुद्ध बताते हुए राष्ट्रपति से त्रिपुरा की सरकार को तुरंत बर्खास्त करने की मांग की। जिला कोषाध्यक्ष देवेन्द्र चावला व युवा चेयरमैन कुंवर बाली ने कहा कि राजनेताओं को समाज में द्वेष फैलाने वाले बयान नहीं देने चाहिए। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने बयान देकर देश के समरसता के माहौल को खंडित करने का जो कुप्रयास किया है। उसकी उतरांचल पंजाबी महासभा कडी निंदा करती है। ज्ञापन सौंपने वालों मे प्रमुख रुप से प्रदेश उपाध्यक्ष परमानंद पोपली, प्रदेश प्रभारी किशोर अरोड़ा, युवा महामंत्री गौरव सचदेवा, युवा कोषाध्यक्ष राहुल खुराना, जोन अध्यक्ष नागेश वर्मा, विक्की तनेजा, अनिल अरोड़ा, हिमांशु चोपड़ा, नारायण आहूजा, पार्षद परमिन्द्र सिंह गिल, जोन महामंत्री हरविन्द्र सिंह उप्पल, जोन चेयरमैन रवि पाहवा आदि शामिल रहे।