कुंभ मेले को सफल बनाना सभी का दायित्व है- श्रीमहंत नरेंद्र गिरी महाराज

हरिद्वार। श्री पंचायती अखाड़ा निरंजनी में सभी तेरह अखाड़ों के संत महंतों ने कुंभ मेले को सकुशल संपन्न कराने का आह्वान किया और गंगा मां के जयकारे लगाए। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरी महाराज ने कहा कि चारों धाम के मुख्य द्वार हरिद्वार में महाकुंभ मेला भगवान केदारनाथ और भगवान बद्रीनाथ की कृपा से सकुशल संपन्न होगा। उन्होंने कहा कि कुंभ मेला विश्व का सबसे बड़ा धार्मिक आयोजन है। जो भारतीय संस्कृति की छठा पूरे विश्व पटल पर एक अनोखे रूप में प्रस्तुत करता है। कुंभ मेले को सफल बनाना सभी का दायित्व है। मां गंगा की कृपा से कुंभ मेला सकुशल संपन्न होगा। निरंजनी अखाड़े के सचिव श्रीमहंत रविन्द्रपुरी महाराज ने कहा कि कुंभ मेला सनातन प्रेमियों की आस्था का केंद्र है। जिसमें लोग मां गंगा का आचमन लेने पूरे विश्व भर से आते हैं। कुंभ मेले के दौरान मां गंगा के आचमन मात्र से ही व्यक्ति का जीवन भवसागर से पार हो जाता है। सरकार को प्रयागराज की तर्ज पर कुंभ मेले की व्यवस्थाएं भव्य व दिव्य रूप से लागू करानी चाहिए। ताकि हरिद्वार आने वाले किसी भी संत या श्रद्धालु भक्त को असुविधा का सामना ना करना पड़े। श्रीपंच निर्मोही अणी अखाड़े के अध्यक्ष श्रीमहंत राजेंद्रदास महाराज व श्रीपंच निर्वाणी अणी अखाड़े के अध्यक्ष श्रीमहंत धर्मदास महाराज ने कहा कि कुंभ के आयोजन से पूर्व कुंभ संबंधी सभी कार्य प्रशासन को पूर्ण करने चाहिए और हरिद्वार मेला क्षेत्र को प्रयागराज की तर्ज पर सजाना चाहिए। अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष महंत देवेंद्र सिंह शास्त्री ने कहा कि पेशवाई मार्गो को दुरूस्त किया जाए। शिविर लगाने के लिए भूमि आवंटन का कार्य भी शीघ्र शुरू किया जाए। इस अवसर पर महंत दामोदर दास, महंत शंकरानंद, महंत ओमकार गिरी, महंत लखन गिरी, श्रीमहंत रामरतन गिरी, महंत किशनदास, महंत रामजी दास, महंत प्रेमदास, महंत अमनदीप सिंह, महंत रामशरण दास, श्रीमहंत रविन्द्रपुरी महाराज, महंत मोहनदास आदि मौजूद रहे।