पब्जी गेम खेल रहे दो युवको ने सल्फास खाकर दे दी जान,पुलिस जांच में जुटी

हरिद्वार। सिडकुल थाना क्षेत्रान्गर्त पब्जी गेम खेल रहे दो युवकों ने सल्फास खाकर जान दी। सूचना मिलने पर मौके पर पहुची पुलिस ने दोनों शवों का पोस्टमार्टम कराया है। उनके पास से जब्त मोबाइल सील कर लैब भेज दिए गए हैं। घटना को लेकर कई सवाल खड़े हो रहे हैं। पुलिस हर एंगल से जांच कर रही है। सिडकुल क्षेत्र की एक कॉलोनी की घटना। पुलिस के मुताबिक सिडकुल की अलग अलग कम्पनियों में काम करने वाले ऋषभ शर्मा, आशीष त्यागी, दिनेश कुमार निवासीगण सहारनपुर व दीपक निवासी यमुनानगर हरियाणा ने महादेवपुरम की सीता विहार कॉलोनी में किराये में रहते थे। कॉलोनी में किराए पर कमरा लिया हुआ था। बुधवार देर रात करीब डेढ़ बजे ऋषभ व दीपक ने संदिग्ध परिस्थितियों में सल्फास खा लिया। अस्पताल ले जाने पर उनकी मौत हो गई। उनके साथ कमरे में रहने वाले दिनेश और आशीष ने पुलिस को बताया है कि ऋषभ व दीपक पब्जी गेम खेलने के आदि थी। बुधवार देर रात तक भी दोनों गेम खेल रहे थे। उसी दौरान दोनों ने सल्फास खा लिया। ऋषभ शर्मा और आशीष त्यागी निवासी पंजाबी बाग सहारनपुर, दिनेश कुमार निवासी देवबंद सहारनपुर और दीपक निवासी यमुनानगर हरियाणा सिडकुल की महादेवपुरम ऋषभ और दीपक पार्टनरशिप में सिडकुल की कंपनियों में लेबर सप्लाई का काम करते थे। जबकि दिनेश और आशीष त्यागी दूसरी कंपनियों में काम करते थे। बुधवार रात 11 बजे दिनेश और आशीष त्यागी खाना खाकर सो गए। जबकि ऋषभ और दीपक मोबाइल पर पब्जी गेम खेलने लगे। रात करीब डेढ़ बजे ऋषभ अचानक लड़खड़ाते हुए बालकनी में बने वॉशरूम की तरफ गया, मगर बाहर ही गिर पड़ा। जिससे दिनेश और आशीष की आंख खुल गई। ऋषभ के साथ-साथ दीपक के मुंह से भी झाग निकलते देख उनके पैरों तले जमीन खिसक गई। दोनों ने राजा बिस्किट चैक पुलिस पिकेट में पहुंचकर पुलिसकर्मियों को सूचना दी। जिस पर सिडकुल थानाध्यक्ष लखपत बुटोला मौके पर पहुंचे। तब तक ऋषभ की मौत हो चुकी थी। एसओ लखपत बुटोला ने सरकारी गाड़ी से दीपक को अस्पताल भिजवाया। कुछ देर बाद उसकी भी मौत हो गई। पुलिस को बालकनी के नीचे से सल्फास का रेपर भी मिला। सिडकुल थानाध्यक्ष लखपत सिंह बुटोला ने बताया कि कमरे से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। मामले की जांच की जा रही है। ऋषभ व दीपक के मोबाइल जांच के लिए फोरेंसिक लैब भेजे जा रहे हैं। दो युवकों के गेम खेलने के दौरान आत्महत्या की बात फिलहाल पुलिस के गले नहीं उतर रही है। सवाल इसलिए भी उठ रहा है कि दोनों ने रात में डेढ़ बजे सल्फास खाया। इससे साफ है कि उन्होंने पहले से कमरे पर सल्फास लाकर रखा था। ऐसे में सल्फास खरीदकर लाने के दौरान उनके दिमाग में ऐसा क्या चल रहा था कि जान देने का मन बना चुके थे। उनके रूम पार्टनरों ने इस बारे में कोई भी जानकारी होने से मना किया है। वहीं पुलिस ने कमरे की तलाशी भी ली, मगर कोई सुसाइड नोट भी पुलिस को नहीं मिला है। सीओ सदर विजेंद्र डोभाल ने भी घटनास्थल का निरीक्षण कर दिनेश व आशीष से पूछताछ की। उनका कहना था कि ऋषभ और दीपक पब्जी गेम खेलने के आदी थे, देर रात तक दोनों गेम खेल रहे थे। उसी दौरान दोनों ने सल्फास खाया है। एसपी सिटी कमलेश उपाध्याय ने बताया कि उनके मोबाइल सील कर दिए गए हैं। हर एंगल से घटना की जांच शुरू कर दी गई है।