चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी संध के आहवान पर उपवास में रहते हुए किया ड्यूटी

हरिद्वार। विभिन्न मांगों को लेकर चतुर्थ श्रेणी राज्य कर्मचारी संघ चिकित्सा स्वास्थ्य सेवाएं उत्तराखंड के आह्वान पर गुरुवार को स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों ने बिना अन्न ग्रहण किए अपनी ड्यूटी की। साथ ही अपनी मांगों लेकर विरोध प्रदर्शन भी किया। प्रदेश महामंत्री दिनेश लखेड़ा व जिला मंत्री राकेश कुमार भंवर ने कहा कि चतुर्थ श्रेणी कर्मी उसी पद से सेवानिवृत्त हो जाता है। उसे कोई पदोन्नति भी नसीब होती है। जो पढ़े लिखे कर्मचारी हैं उनको अगर पदोन्नति मिल भी गयी तो ज्यादा से ज्यादा लिपिक ही बन पाता है। संघ द्वारा मांग की गई कि पशुपालन विभाग की तर्ज पर ही चतुर्थ श्रेणी कर्मियों की पदोन्नति की जाए। जिला उपाध्यक्ष ममता, वरिष्ठ नेता सुरेश चंद और राजेंद्र तेश्वर ने कहा कि चतुर्थ श्रेणी कर्मी अग्रिम पंक्ति में ड्यूटी करने के बाद भी कर्मचारियों की पदोन्नति नहीं है तो स्टर्फिंग पैटर्न पर 4200 ग्रेड पे और आयुर्वेद विश्वविद्यालय के ऋषिकुल और गुरुकुल के कर्मियों का डीडीओ कोड बहाल होना चाहिए। ड्यूटी पर रहकर विरोध करने वालों में शिवनारायण सिंह, छत्रपाल, राकेश भंवर, दीपक, सुरेश, महेश कुमार, दिनेश नोटियाल, अरुण कुमार, मुकेश, धर्म सिंह, अजय रानी, रजनी ममता, सुदेश अनिता आदि शामिल रहे।


Comments