एक करोड़ की रंगदारी मांगने के मामले में फरार दो आरोपी भी गिरफ्रतार

हरिद्वार। ज्वालापुर के प्रॉपर्टी डीलर मोनू त्यागी से एक करोड़ रुपये की रंगदारी मांगने के मामले में पुलिस ने फरार चल रहे रुड़की निवासी दो आरोपितों को गिरफ्तार किया है। उनके कब्जे से कारतूस समेत एक तमंचा और प्रॉपर्टी डीलर के घर की रैकी करने में इस्तेमाल हुई बाइक भी बरामद हुई है। दोनों को जेल भेज दिया है। आर्यनगर ज्वालापुर निवासी प्रॉपर्टी डीलर मोनू त्यागी के घर के बाहर सात सितंबर की रात बाइक सवार युवकों ने फायरिग कर सनसनी फैला दी थी। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर छानबीन शुरू की। इसी बीच मोनू त्यागी के मोबाइल पर अंजान नंबर से कॉल आई। फोन करने वाले शख्स ने अल्मोड़ा जेल में बंद कलीम निवासी मंगलौर को एक करोड़ रुपये बतौर रंगदारी देने के लिए कहा। अगले दिन वाट्सएप पर यही मांग दोहराते हुए अंजाम भुगतने की धमकी दी गई। पुलिस ने इस मामले में कलीम के तीन गुर्गो को गिरफ्तार कर पूरे घटनाक्रम का पर्दाफाश किया था। मामले में दो आरोपित फरार चल रहे थे। उनकी धरपकड़ के लिए जाल बिछाया गया था। ज्वालापुर कोतवाली प्रभारी प्रवीण कोश्यारी ने बताया कि सोमवार की शिवमूर्ति तिराहे के पास से आरोपित निशांत वर्मा उर्फ सुनार निवासी सैनिक कॉलोनी व सागर चैहान निवासी चाव मंडी रुड़की को मुखबिर की सूचना पर गिरफ्तार किया गया। उनके कब्जे से कारतूस सहित एक तमंचा व रैकी में इस्तेमाल बाइक बरामद हुई है। गिरफ्तार आरोपित निशांत सात सितंबर को फायरिग की घटना में पूर्व में गिरफ्तार हो चुके आरोपितों के साथ शामिल था। जबकि सागर चैहान ने उन्हें घटना के लिए असलहे उपलब्ध कराए थे। कोर्ट में पेश करने के बाद दोनों को जेल भेज दिया गया है।