गर्भस्थ शिशु की मौत के बाद अस्पताल परिसर में परिजनों का हंगामा,पुलिस ने कराया शांत

हरिद्वार। कोतवाली ज्वालापुर क्षेत्र में एक महिला के गर्भ में पल रहे शिशु की मौत को लेकर परिजनों ने अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ हंगामा कर कार्यवाही की मांग करने लगे। परिजनों ने अस्पताल प्रबंधन पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा काटा। आरोप लगाया कि अस्पताल में सर्जन की जगह बीएमएस डॉक्टर से ऑपरेशन कराया जा रहा था। सूचना मिलने पर पुलिस ने मौके पर पहुंचकर मामले को शांत कराया। परिजनों ने पुलिस को अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ शिकायत दे दी है। पुलिस के अनुसार कोतवाली क्षेत्रान्गर्त ज्वालापुर सराय रोड स्थित ज्ञान लोक कॉलोनी निवासी शिवम तोमर अपनी गर्भवती पत्नी कीर्ति तोमर को गत दिवस शुक्रवार को डिलीवरी के लिए सीएचसी ज्वालापुर में लेकर गए थे। लेकिन यहां चिकित्सकों ने उन्हें दूसरे अस्पताल ले जाने की सलाह दे दी। इसके बाद वह पत्नी को ज्वालापुर के एक अस्पताल लेकर पहुंचे। जहां कीर्ति को भर्ती कर लिया गया। परिजनों का आरोप है कि दोपहर में भर्ती करने के बाद देर रात को महिला को डिलीवरी के लिए ऑपरेशन थिएटर ले जाया गया। लेकिन उसके बाद भी ऑपरेशन नहीं किया। परिजनों ने आरोप लगाया कि ऑपरेशन में देरी के कारण हुई लापरवाही से गर्भ में ही शिशु की मौत हो गई। मामले की जानकारी लगते ही महिला के परिजनों और रिश्तेदार समेत आसपास के लोग अस्पताल पहुंच गए। परिजनों ने चिकित्सकों पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए अस्पताल में परिसर में जमकर हंगामा काटा। हंगामे की सूचना मिलने पर कोतवाली पुलिस की टीम मौके पर पहुंची। पुलिस ने परिजनों को समझा बुझाकर शांत कराया। परिजनों ने आरोप लगाया कि जब बच्चे की मौत गर्भ में ही हो गई तो आनन-फानन में ऑपरेशन किया गया। उससे पहले चिकित्सक हीलाहवाली करते रहे। आरोप लगाया कि सर्जन की जगह बीएमएस डॉक्टर से ऑपरेशन कराया गया। परिजनों ने अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ पुलिस को तहरीर दी है। फिलहाल महिला का उपचार अस्पताल में ही चल रहा है। अस्पताल स्वामी से जब उनका पक्ष जानना चाहा तो उन्होंने व्यस्त होने की बात कहकर फोन काट दिया। मामले को लेकर कोतवाली प्रभारी प्रवीण सिंह कोश्यारी के अनुसार मामले की जांच की जा रही है।