स्वास्थ्य विभाग के चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों ने उपवास रख किया प्रदर्शन

हरिद्वार। चतुर्थ श्रेणी राज्य कर्मचारी संघ चिकित्सा स्वास्थ्य के आहवान पर कर्मचारियों ने दूसरे दिन भी अपनी ड्यूटी बिना अन्न ग्रहण किए हुए की। जिलाध्यक्ष शिवनारायण सिंह, जिला मंत्री राकेश भंवर, पूर्व उपशाखा अध्यक्ष नरेंद्र बागड़ी ने कहा कि कर्मचारियों के आंदोलन के 19वें दिन भी कर्मचारियों की बात नही सुनी जा रही है। जिससे कर्मचारियों के सब्र का बांध टूटने का डर है। कर्मचारी उग्र आंदोलन को मजबूर हो रहे हैं। आंदोलन के दूसरे दिन ऋषिकुल आयुर्वेदिक चिकित्सालय के बाहर प्रदर्शन को संबोधित करते हुए प्रदेश महामंत्री दिनेश लखेड़ा ने कहा कि चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों के सबसे अग्रिम पंक्ति में रहने के बावजूद उनके साथ जो सौतेला व्यवहार किया जा रहा है। वो सबको मालूम पड़ गया है कोई भी अधिकारी यह नही चाहते कि चतुर्थ श्रेणी कर्मी आगे बढे। जबकि अन्य विभागों में जैसे पशुपालन विभाग में कमर्चारियों को वेक्सीनेटर पद पर पदोन्नति कर दी गई। सिचाई और शिक्षा विभाग में भी पदोन्नति हुई। लेकिन स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को इस सबसे कोई फर्क नहीं पड़ता है। चिकित्सा स्वास्थ्य विभाग के चतुर्थ श्रेणी कर्मियो का कार्य अन्य चतुर्थ श्रेणी कर्मियो से भिन्न है और टेक्नीकल भी है। इसलिये उनको उद्यान विभाग और निर्वाचन विभाग की भांति 42वें ग्रेड पे अनुमन्य किया जाना न्यायोचित होगा। प्रदर्शन करने वालों में शिवनारायण सिंह, राकेश भंवर, नरेंद्र बागड़ी, दिनेश, नितिन, मोहित मनोचा, दीपक, ममता, अरुण, बाला, रजनी, अजय रानी, सुदेश, अनिता, पूनम, मुन्नी, सुरेश, शीशपाल, मूलचंद चैधरी, महेश कुमार, धर्मसिंह, राजेन्द्र तेश्वर, नरेंद्र बागड़ी, सचिन, दिनेश लखेड़ा आदि शामिल रहे।