ठेकेदार,सुपरवाइजर,लेबर के साथ मारपीट के मामले में पार्षद पति सहित तीन के खिलाफ मुकदमा दर्ज

हरिद्वार। ज्वालापुर वाल्मीकि बस्ती में नाला निर्माण कर रहे ठेकेदार, सुपरवाइजर व लेबर के साथ मारपीट के आरोप में पुलिस ने पार्षद के पति व युवक कांग्रेस के कार्यकारी जिलाध्यक्ष रवि बहादुर सहित तीन आरोपितों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया। सुपरवाइजर का आरोप है कि पार्षद के पति ने निर्माण कार्य में कमीशन की मांग की है। कमीशन न देने पर काम बंद कराते हुए उसके साथ मारपीट की। टांडा टीरा औरंगाबाद निवासी संदीप कुमार ने पुलिस को तहरीर देकर बताया कि वह मां अंबा एसोसिएट कंस्ट्रक्शन कंपनी में साइट सुपरवाइजर है। वाल्मीकि बस्ती में लोक निर्माण विभाग की ओर से उनकी फर्म नाले का निर्माण कर रही है। संदीप का आरोप लगाया कि स्थानीय पार्षद दीपिका बहादुर के पति रवि बहादुर अपने साथी जॉनी व ऋषभ के साथ साइट पर पहुंचे और घटिया निर्माण सामग्री लगाने का आरोप लगाते हुए काम बंद करने को कहा। मजदूरों को गालियां देते हुए मौके से भगाने का प्रयास किया। विरोध करने पर पीटा। उन्होंने ठेकेदार प्रशांत पाराशर को जानकारी दी। ठेकेदार प्रशांत अपने परिचित मोहित खुराना के साथ मौके पर पहुंचे तो उनके साथ भी मारपीट की और जान से मारने की धमकी दी। ज्वालापुर कोतवाली प्रभारी प्रवीण कोश्यारी ने बताया कि तहरीर के आधार पर पार्षद के पति रवि बहादुर, जॉनी व ऋषभ निवासी वाल्मीकि बस्ती ज्वालापुर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। वही युवक कांग्रेस के कार्यकारी जिलाध्यक्ष रवि बहादुर ने खुद पर लगाए आरोपों को निराधार बताया है। उनका कहना है कि तहरीर देने वाले व्यक्ति को वह जानते भी नहीं हैं। मीडिया को जारी बयान में रवि बहादुर ने कहा कि निर्माण कार्य में भारी अनियमितता की जा रही है। आरोप लगाया कि निर्माण में गुणवत्ता की बात करने पर ठेकेदार प्रशांत पाराशर ने खुद को एक मंत्री का रिश्तेदार बताकर दबाव बनाने का प्रयास किया है।