योजनाओं का लाभ देने में परेशानी खड़ी करने वाले बैंको के खिलाफ होगी कारवाई-डी.एम.

हरिद्वार - जिलाधिकारी सी0 रविशंकर की अध्यक्षता में कल कलेक्ट्रेट सभागार में जिला स्तरीय परामर्शदात्री समिति (क्स्त्ब्) की बैठक आयोजित हुई।  बैठक में जिलाधिकारी ने स्पष्ट रूप से बैंकों को निर्देश दिये कि वह बैंको के माध्यम से चलने वाली सरकार की जन कल्याणकारी योजनाओं के लाभ देने में परेशानी खड़ी करने वाले बैंकों पर कार्रवाई करने से नहीं चूकेंगें। उन्होंने कहा कि जिन बैंकों का प्रदर्शन अच्छा होगा उन्हें प्रोत्साहित किया जायेगा तथा जिनका प्रदर्शन अच्छा नहीं होगा, उनकी जिम्मेदारी तय की जायेगी। उन्होंने यह भी कहा कि सेल्फ हेल्प गु्रप को तकनीकी दिक्कत हैं तो उसे दूर करेे। अधिकारियों ने जिलाधिकारी को बताया कि प्रधानमंत्री जनधन योजना के अन्तर्गत हरिद्वार जनपद में 6 लाख 88 हजार बैंक खाते खोले जा चुके हैं, प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना के अन्तर्गत 2 लाख 97 हजार 443 व्यक्तियों को बीमित किया जा चुका है, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना के अन्तर्गत 1 लाख 15 हजार 493 व्यक्तियों को बीमित किया जा चुका है, अटल पेंशन योजना के अन्तर्गत 54 हजार 913 व्यक्तियों को पेंशन का लाभ दिया जा चुका है, अब तक 87.35 प्रतिशत सक्रिय जमा खातों में आधार सीडिंग की जा चुकी है, सूचना प्रौद्यागिकी आधारित वित्तीय समावेशन को प्रेरित किया जा रहा है, जनपद में ऋण-जमा अनुपात का प्रतिशत 62.60ः है। सी0 रविशंकर ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि जन कल्याणकारी योजनाओं तथा अन्य ऋण सम्बन्धी जो भी आवेदन उन्हें प्राप्त हों, उन पर तत्काल कार्रवाई करें तथा जो पात्र व्यक्ति हैं, उन्हें स्वीकृति तुरन्त प्रदान करें तथा जिन आवेदनों में कोई कमी है तो उस कमी का उल्लेख करते हुये आवेदन अस्वीकृत होने के कारण का उल्लेख करते हुये 15 दिन के भीतर आवेदक को सूचित कर दें। सही व्यक्ति को योजनाओं का लाभ अवश्य मिलना चाहिये तथा लोगों को अनावश्यक परेशान न करें, क्योंकि बहुत से लोग काफी गरीब हैं। बैठक में नेशनल बैंक लि0, नाबार्ड, बैंक आॅफ इण्डिया, ए0आईसी0 देहरादून, सी0एच0ओ0.डी0एस0 डब्ल्यू ओ0 हरिद्वार, महाप्रबन्धक जिला उद्योग, डेयरी डेवलेपमेंट, ई0ए0सी0 हरिद्वार, बन्धन बैंक, बैंक आॅफ बड़ौदा, बैंक आॅफ महाराष्ट्रा, केनरा बैंक, सेण्ट्रल बैंक आॅफ इण्डिया, जिला सहकारी बैंक, एचडीएफसी, आईडीबीआई, इण्डियन बैंक, इण्डियन ओवरसीज बैंक, जेएनके, कर्नाटक बैंक लि0, पंजाब एण्ड सिन्ध बैंक, पंजाब नेशनल बैंक, एसबीआई, यूको बैंक, यूनियन बैंक आॅफ इण्डिया, उत्तराखण्ड ग्रामीण बैंक, यश बैंक, इण्डियन पोस्ट पेमेंट बैंक तथा उत्तरांचल ग्रामीण बैंक सेे सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित थे।