यूपी सेतु निर्माण निगम के प्रोजेक्ट मैनेजर की हत्या के मामले में पत्नी व अन्य के खिलाफ मुकदमा

हरिद्वार। कोतवाली ज्वालापुर पुलिस ने यूपी सेतु निर्माण निगम के प्रोजेक्ट मैनेजर की हत्या के मामले में पत्नी व अन्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। आरोप है कि दिल्ली-देहरादून हाईवे पर फोरलेन का निर्माण कर रहे उत्तर प्रदेश सेतु निर्माण निगम के प्रोजेक्ट मैनेजर अमरदीप चैहान की संदिग्ध परिस्थितियों में मृत्यु हो गयी थी, अब मृतक की माता की ओर से हत्या मामले में पत्नी और एक अन्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। फिलहाल, पुलिस ने मामले में आगे की जांच शुरू कर दी है। गौरतलब है कि प्रोजेक्ट मैनेजर अमरदीप चैहान का शव बीती 23 जुलाई को ज्वालापुर स्थित उनके फ्लैट में मिला था। उस समय पत्नी ने दावा किया था कि अमरदीप चैहान ने खुदकुशी की है, लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट ने मौत को लेकर कई सवाल खड़े कर दिए थे। इस मामले में अमरदीप चैहान की मां सुमनलता चैहान निवासी ग्वालियर मध्य प्रदेश ने ज्वालापुर कोतवाली में तहरीर देकर अपनी बहू नीता पर बेटे की हत्या का आरोप लगाया। उनका कहना है कि नीता के भाई का साढू भी आस-पास ही रहता है। दोनों ने मिलकर अमरदीप की हत्या की है। उत्तरी हरिद्वार से लालतप्पड के बीच फोरलेन निर्माण का कार्य संभाल रहे हाथरस उत्तर प्रदेश निवासी अमरदीप चैहान की 23 जुलाई को ज्वालापुर कोतवाली क्षेत्र के जूर्स कंट्री के फ्लैट में संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी। अमरदीप यहां हरिद्वार ज्वालापुर जुर्स कंट्री में अपनी पत्नी और बच्चे के साथ रह रहे थे। उनकी पत्नी ने पुलिस को सूचना दी कि अमरदीप चैहान ने आत्महत्या कर ली है। सूचना मिलते ही ज्वालापुर पुलिस मौके पर पहुंची तो अमरदीप का शव एक कमरे में पड़ा हुआ था। पूछताछ में पत्नी ने यह दावा किया कि रात में उसका पति से विवाद हुआ था। इसीलिए पति ने आत्महत्या की है, लेकिन चूंकि अमरदीप का शव नीचे फर्श पर पड़ा मिला था। इसलिए यह कहानी पुलिस के गले नहीं उतर रही थी। पुलिस ने शव का  पोस्टमार्टम कराया। सोमवार को रिपोर्ट मिलने पर सामने आया कि अमरदीप की मौत दम घुटने से हुई है। गले में कुछ निशान भी मिले थे, जिससे पुलिस को शक हो गया कि अमरदीप का गला दबाकर उसकी हत्या की गई। पुलिस ने नीता और एक अन्य के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।