तीर्थ पुरोहितों का धरना 39वंे दिन भी जारी

हरिद्वार। गंगा की अविरल धारा को स्केप चैनल घोषित किए जाने के विरोध में हरकी पैड़ी पर चल रहा तीर्थ पुरोहितों का धरना 39वंे दिन भी जारी रहा। धरना स्थल पर हुई सभा को सम्बोधित करते हुए तीर्थ पुरोहित व आत्मचिन्तनम परिवार के अध्यक्ष उमा शंकर वशिष्ठ ने कहा कि 2016 से सरकारों द्वारा माँ गंगा को निरन्तर अपमानित किया जा रहा है। दिसम्बर 16 में कांग्रेस की हरीश रावत सरकार द्वारा हरकी पैड़ी पर बह रही गंगा की अविरल धारा को स्केप चैनल घोषित कर दिया गया था। गंगा जल की धारा को स्केप चैनल घोषित करने पर कांग्रेस सरकार की आलोचना करने वाली भाजपा की त्रिवेंद्र रावत सरकार ने भी आश्वासनों के बाद भी काले शासनादेश को साढ़े तीन वर्ष बीत जाने के बाद भी निरस्त नही किया। सरकार के अधिकारी गंगा मे जूते लेकर प्रवेश कर रहे हैं। माँ गंगा के प्रति किये गए अपराध का परिणाम हरीश रावत दो विधान सभा क्षेत्रों से चुनाव हारकर भुगत चुके है। अब वर्तमान मुख्यमंत्री भी धर्म विरोधी कृत्य के परिणाम को भुगतने के लिये तैयार रहें। उच्च न्यायालय ने सीबीआई जांच के आदेश दे दिए है। अभी भी समय है कि मुख्यमंत्री करोड़ों श्रद्धालुओं की भावना को आहत करने वाले इस काले शासनादेश को निरस्त करें। अन्यथा उनका व भाजपा का हश्र भी हरीश रावत सरकार जैसा ही होगा। गुरुवार को धरने पर सिद्धार्थ त्रिपाठी और सौरभ सिखौला उपवास पर रहे। इस मौके पर उमाशंकर वशिष्ठ, सौरभ गौतम, अनिल कौशिक, सुनील चाकलान, प्रदीप निगारे आदि मौजूद रहे।