लम्बित मांगो को लेकर कर्मचारियों ने किया धरना प्रदर्शन,अनिश्चितकालीन प्रदर्शन की चेतावनी

 हरिद्वार। 12 सूत्रीय लंबित मांगों को लेकर उत्तराखंड जल संस्थान कर्मचारी संघ के बैनर तले कर्मियों ने मंगलवार को पंतद्वीप स्थित अधिशासी अभियंता कार्यालय के बाहर धरना, प्रदर्शन किया। संघ ने शीघ्र कर्मचारियों की मांगों का निराकरण न होने पर 19 नवंबर से अनिश्चितकालीन धरना, प्रदर्शन की चेतावनी दी। जल संस्थान के कर्मचारियों ने लंबित मांगों को लेकर जल संस्थान कार्यालय पर नारेबाजी कर धरना दिया। मांगें पूरी न होने पर 19 नवंबर से अनिश्चिकालीन धरना देने की चेतावनी दी। मंगलवार को उत्तराखंड जल संस्थान कर्मचारी संघ हरिद्वार शाखा के बैनर तले कर्मचारी पंतद्वीप स्थित अधिशासी अभियंता कार्यालय पर एकत्र हुए। यहां विरोध प्रदर्शन कर नाराजगी जाहिर करते हुए धरने पर बैठ गए। अध्यक्ष धन सिंह नेगी ने कहा कि कर्मचारियों की 12 सूत्रीय मांगें लंबे समय से पूरी नहीं की गई हैं। लगातार कर्मचारी मांगों को लेकर आवाज उठाने का काम कर रहे हैं। संबंधित अधिकारियों को भी पत्र दिए जा चुके हैं। लेकिन अभी तक भी मांगें पूरी नहीं की गईं। उन्होंने कहा कि जनवरी 2019 से जुलाई तक का भत्ते का भुगतान जल्द किया जाए। कर्मचारियों को देय शीतकालीन और ग्रीष्मकालीन वर्दी का भुगतान भी जल्द से जल्द किया जाना चाहिए। कर्मचारियों के विभागीय आवासों की मरम्मत के साथ ही पंप हाउसों की भी मरम्मत, रंगाई-पुताई कराई जाए। सचिव भारत सिंह रावत ने कहा कि नलकूप नंबर पांच पर सीढ़ियों का निर्माण किया जाना बहुत आवश्यक है। जल्द इस कार्य को शुरू किया जाए। करीब 40 वर्षों से जल संस्थान में सेवा दे रहे शिव सिंह बिष्ट, तेजपाल सिंह ने कहा कि पाइप लाइन फिटर को तृतीय पदोन्नत वेतनमान का लाभ दिया जाना चाहिए। पंप चालक, पंप लाइन फिटर को ग्रेड पे 2400 दिया जाए। चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों को एसीपी के तहत तृतीय पदोन्नत वेतनमान 4200 ग्रेड पे दिया जाए। पंप हाउस के पास पंप चालकों के लिए शौचालय बनाए जाएं। उन्होंने कहा कि जल्द ही कर्मचारियों की मांगें पूरी नहीं की गई तो 19 नवंबर से अनिश्चितकालीन धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया जाएगा। धरना देने वालों में नत्थी सिंह, शिव सिंह, अमित कुमार, संजय कुमार शर्मा, मनमोहन सिंह, विश्वास चैहान, सतीश कुमार, नरेंद्र राजपूत, अशोक हरदयाल, सुरेंद्र मिश्रा, दिनेश शर्मा, अक्षय कुमार, जितेंद्र सिंह, संजय सिंह, स्वधेश कुमार शर्मा, सत्येंद्र सिंह रावत, मालदत्त सती, फ्रांसिस जेम्स, कमल किशोर सैनी, श्यामा प्रसाद, शिव बहादुर, दीपाली, तेजपाल सिंह, विष्णु दत्त शर्मा, दिवाकर, जय प्रकाश शर्मा, सुशील पटवल, लाल बहादुर थापा आदि शामिल रहे।