त्यागमूर्ति गोस्वामी गणेश दत्त महाराज की जयंती मनाई गई

 हरिद्वार। अक्षय नवमी के अवसर पर श्री सनातन धर्म प्रतिनिधि सभा के संस्थापक और भारतरत्न महामना मदन मोहन मालवीय के एकमात्र मंत्र दीक्षित शिष्य त्यागमूर्ति गोस्वामी गणेश दत्त महाराज की जयंती श्रद्धा पूर्वक मनाई गई। श्री मिथिलेश सनातन धर्म इंटर कॉलेज कनखल में इस अवसर पर एक गोष्ठी का आयोजन किया गया। गोष्ठी में मुख्य अतिथि के रुप में बोलते हुए श्री सनातन धर्म प्रतिनिधि सभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और कॉलेज की प्रबंध समिति के अध्यक्ष सुधीर कुमार गुप्ता ने कहा कि महामना मदन मोहन मालवीय ने त्याग त्यागमूर्ति गोस्वामी गणेश दत्त महाराज को मंत्र दीक्षित कर शिक्षा जगत के क्षेत्र में कार्य करने का दायित्व सौंपा था। जिसे गोस्वामी जी ने बखूबी निभाया और उन्होंने देशभर में शिक्षण संस्थाओं की स्थापना की। नगर पालिका के पूर्व अध्यक्ष और कॉलेज की प्रबंध समिति के सचिव प्रबंधक सतपाल ब्रह्मचारी ने  कहा कि त्यागमूर्ति गोस्वामी ने पूरे भारत का भ्रमण कर शिक्षा के लिए अलख जगाई ।उन्होंने जाति का भेद तोड़कर दलितों को मंदिरों में प्रवेश कराने की प्रथा की शुरुआत क वे महान समाज सुधारक और शिक्षाविद थे। कॉलेज की प्रधानाचार्या मीनाक्षी शर्मा ने कहा कि त्यागमूर्ति गोस्वामी गणेश दत्त के विचार हमेशा प्रासंगिक रहेंगे। उन्होंने शिक्षा के क्षेत्र में महान योगदान दिया। उनके योगदान को भुलाया नहीं जा सकता है। कॉलेज के पूर्व प्रबंधक सुनील पांडे ने कहा कि गोस्वामी जी का जीवन सादा जीवन उच्च विचार के सिद्धांतों पर प्रतिपादित था।