नगर निगम क्षेत्र में अवैध शराब व मांस के कारोबार पर रोक लगाने की मांग

 हरिद्वार। हिंदुवादी नेता चरणजीत पाहवा ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर नगर निगम क्षेत्र में अवैध शराब व मांस के कारोबार पर रोक लगाने की मांग की है। प्रैस को जारी बयान में पाहवा ने कहा कि वे पिछले बीस वर्ष नगर निगम क्षेत्र में अवैध रूप से चल रहे शराब व मांस के कारोबार को बंद कराने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने के बाद इस कारोबार पर रोक लगने की उम्मीद बंधी थी। लेकिन शराब व मांस का अवैध कारोबार खुलेआम चल रहा है। जिससे करोड़ों लोगों की भावनाएं आहत हो रही हैं। खुलेआम पशु काटे जा रहे हैं। जिनका खून नालों में बहकर सीधे गंगा में गिर रहा है। अंग्रेजी राज में हरिद्वार की धार्मिक मान्याताओं का पूरा ख्याल रखा जाता था। उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार धर्मनगरी की पूरी उपेक्षा कर रही है। उपनगरी ज्वालापुर का जो हाल बीस वर्ष पहले था। उसमें आज भी कोई बदलाव नहीं आया है। ज्वालापुर क्षेत्र में चल रहे मांस के अवैध कारोबार की वजह से हिन्दू मुस्लिम दोनों समुदाय के लोग परेशान हैं। हरिद्वार विश्व का सबसे बड़ा तीर्थ स्थल है। हरिद्वार नगर निगम क्षेत्र में सैकड़ों मांस की दुकानें और सैकड़ों जगह गली मोहल्लों में अवैध रूप से शराब बिक रही है। नशे का कारोबार चरम सीमा पर है। पाहवा ने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि एक महीने के अंदर मांस व शराब का अवैध कारोबार बंद नहीं हुआ तो मुख्यमंत्री के हरिद्वार आने पर वे उन्हें काले झण्डे दिखाएंगे।