संतो की मौजूदगी के साथ वैदिक मंत्रोच्चार के बीच अस्थियां विसर्जित

 हरिद्वार। तीर्थनगरी हरिद्वार की प्रख्यात धार्मिक संस्था पावन धाम के परमाध्यक्ष म.मं. स्वामी सहज प्रकाश महाराज का विगत दिनों पंजाब स्थित मोगा में अपने मुख्य आश्रम में निधन हो गया था। उनका अंतिम संस्कार भी मोगा में ही सम्पन्न हुआ। विगत रात्रि उनके शिष्य अनुज ब्रह्ममचारी व ट्रस्टीगण अस्थि कलश लेकर हरिद्वार स्थित पावन धाम आश्रम पहुंचे। आज प्रातः अस्थि कलश पर संत समाज, ट्रस्टीगणों, गणमान्यजनों व भक्तजनों ने पुष्पाजंलि अर्पित कर अपनी संवदेना व्यक्त की। उसके पश्चात उनकी अस्थि कलश यात्रा पूर्व गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद सरस्वती के सानिध्य और अनुज ब्रह्ममचारी के संयोजन में पावन धाम आश्रम से हरकी पैड़ी तक पहुंची। हरकी पैड़ी पर काली मंदिर पीठाधीश्वर स्वामी कैलाशानंद ब्रह्मचारी, म.मं. स्वामी हरिचेतनानंद, स्वामी हरि चेतन आनन्द, महंत भगवान दास, म.मं. स्वामी ज्योर्तिमय आनन्द, स्वामी रूपेन्द्र प्रकाश, जगदीश दास, स्वामी सुतीक्ष्ण मुनि, स्वामी गिरिशानन्द, स्वामी सागर मुनि, श्रीमहंत देवानंद सरस्वती, भारत माता मंदिर के श्रीमहंत ललितानंद गिरि, महंत जगजीत सिंह, महंत रविदेव शास्त्री, महंत दिनेश दास, महंत राजकुमार दास, पुष्पेन्द्र पुरी, महंत प्रहलाद दास सहित संत-महंतजनों ने अस्थि कलश पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि अर्पित की। हरकी पैड़ी पर ब्रह्मलीन स्वामी सहज प्रकाश के शिष्य अनुज ब्रह्मचारी के कर-कमलों द्वारा विद्वान आचार्य शैलेश मोहन शर्मा ने विधि-विधान के साथ ब्रह्मलीन स्वामी सहज प्रकाश महाराज की अस्थि विसर्जन सम्पन्न करवाया। इस अवसर पर संयुक्त उपाध्यक्ष सुखवन्त राय जोशी, क्षेत्रीय पार्षद अनिरूद्ध भाटी, समाजसेवी मिंटू पंजवानी, गंगा सभा के अध्यक्ष प्रदीप झा, पार्षद प्रतिनिधि विदित शर्मा, मनोज जखमोला, सुनील मिश्रा, सुन्दर शर्मा, संजय वर्मा, मोहित नवानी, विश्व हिन्दू परिषद के मयंक चैहान, सिद्धार्थ चक्रपाणी, कमल बृजवासी, विनित जौली समेत अनेक गणमान्यजन व भक्तगण उपस्थित रहे।