डायलिसिस सेवा शुरू होने से आम जनता को राहत मिलेगी-- सी.रविशंकर

 हरिद्वार। कनखल स्थित रामकृष्ण मिशन सेवाश्रम में गुरूवार को विवेकानंद डायलिसिस सेंटर का उद्घाटन मुख्य अतिथि जिलाधिकारी सी रविशंकर ने फीता काटकर किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता मिशन के सचिव स्वामी नित्य शुद्धानंद महाराज ने की। जिलाधिकारी रविशंकर ने कहा कि रामकृष्ण मिशन सदा से ही मानवता की भलाई के लिए काम करता रहा है। जिला प्रशासन मिशन का आभारी है कि उन्होंने यहां की जनता के लिए यह कदम उठाया। जिलाधिकारी ने कहा कि हरिद्वार एक बड़ी आबादी वाला जिला है। इसके मुकाबले यहां डायलिसिस की सुविधा कम है। रामकृष्ण मिशन में डायलिसिस सेंटर शुरू होने से आम जनता को काफी लाभ पहुंचेगा। जिलाधिकारी ने कहा कि रामकृष्ण मिशन अस्पताल लंबे समय से लोगों को बहुत ही कम शुल्क में अच्छा इलाज मुहैया कराता आ रहा है। यहां 5 नई डायलिसिस मशीनें लगाई गई हैं। जिससे प्रतिदिन 10 मरीजों की डायलिसिस की जा सकती है। कम दरों पर डायलिसिस करवाने से मरीजों को काफी राहत पहुंचेगी। रामकृष्ण मिशन सेवाश्रम के सचिव स्वामी नित्यशुद्धानंद महाराज ने कहा की बहुत समय से अस्पताल प्रयत्न कर रहा था कि मरीजों को डायलिसिस के लिए इधर उधर ना भटकना पड़े, यह सुविधा सब मरीजों को कम दाम पर उपलब्ध रहेगी। मुंबई के उद्योगपति आरके दमानी द्वारा यह मशीनें अस्पताल को भीड़ की है।  देहरादून मैक्स हॉस्पिटल के वाइस प्रेसिडेंट डॉ संदीप तलवार ने बताया कि उत्तराखंड में उपयुक्त चिकित्सीय सुविधाएं ना होने के कारण बहुत से मरीजों को जान से हाथ धोना पड़ता है और किडनी खराब होने पर जब कोई आशा की किरण नहीं नजर आती है तो ऐसे में डायलिसिस सेंटर द्वारा मरीजों की चिकित्सा की जाती है। उन्होंने बताया कि एक डायलिसिस होने में लगभग 4 घंटे का समय लगता है। सभी डॉक्टरों को यहां पर विशेषज्ञों द्वारा प्रशिक्षण दिया गया है। इन डायलिसिस मशीनों का उपयोग करने के लिए और वह हमारी निगरानी में रहेंगे। कार्यक्रम का संचालन करते हुए संयोजक स्वामी दयाधिपानंद महाराज ने कहा कि हरिद्वार में डायलिसिस व्यवस्था उपलब्ध होने से मरीजों को आ रही दिक्कतों से राहत मिलेगी।रामकृष्ण मिशन सेवाश्रम में प्रतिदिन 10 मरीजों का डायलिसिस हो सकेगा। यहां पर 5हाईटेक मशीनें लगाई गई हैं,जिनका उपयोग किडनी मरीजों के लिए होगा। कार्यक्रम में मिशन के स्वामी मंजू महाराज स्वामी जगदीश महाराज समेत कई संत महन्त मौजूद थे।