कुम्भ मेला को लेकर धर्मशाला सुरक्षा व धर्मशाला प्रबंधक समिति की मेला आईजी की बैठक

 हरिद्वार। राष्ट्रीय धर्मशाला सुरक्षा समिति और क्षेत्रीय धर्मशाला प्रबंधक समिति के पदाधिकारियों ने कुंभ मेला 2021 को सफल बनाने हेतु कुम्भ मेला आईजी संजय गुंज्याल के साथ सी.सी.आर टावर में बैठक की। इस दौरान धर्मशालाओ और प्रबंधकों की समस्याओं पर विचार विमर्श किया। इस दौरान मेला आईजी संजय गुंज्याल ने कहा कुम्भ मेले के दृष्टिगत मेला पुलिस एक मोबाइल ऐप बनाने पर विचार कर रही है। जिसमें हरिद्वार के सभी आश्रमों, धर्मशालाओ और होटलों का डाटा दर्ज होगा और कुंभ में आने वाले यात्रियों को उसी ऐप पर अपनी सभी जानकारियां देनी होगी। उन्होंने समिति के सभी पदाधिकारियों से मेला काल मे पुलिस को सहयोग देने की अपील करते हुए कहा कि इस बार पुलिस के लिए टेंट बहुत सीमित मात्रा में लगाए जा रहे हैं। जिस कारण धर्मशालाओ और आश्रमों के भी कमरे लिए जाएंगे जिसका भुगतान किया जाएगा। इस पर सभी पदाधिकारियों ने अपनी सहमति प्रदान की। उन्होंने कहा कि कुछ पुरानी और जीर्ण शीर्ण पड़ी धर्मशालाओं का जीर्णोद्धार भी मेला पुलिस द्वारा किया जाएगा। जिन्हें मेला अवधि में पुलिस बल द्वारा किया जाएगा। राष्ट्रीय धर्मशाला सुरक्षा समिति के अध्यक्ष महेश गौड़ ने कहा कि सभी धर्मशालाएं मेला प्रशासन को पूर्ण सहयोग प्रदान करेंगे। सभी धर्मशालाओ में सीसीटीवी कैमरे और अग्नि शमन यंत्र लगाने के लिए निर्देशित कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि हरिद्वार की सभी धर्मशालाएं पूर्व में भी मेलो पर पुलिस और प्रशासन को सहयोग करती आई हैं जो आगे भी जारी रहेगा। राष्ट्रीय धर्मशाला सुरक्षा समिति के महामंत्री विकास तिवारी ने कहा कि धर्मशाला प्रबंधक एसपीओ के रूप में भी मेला प्रशासन को पूर्ण सहयोग करेंगे और मेला पुलिस और मेला प्रशासन के साथ मिलकर कुंभ मेले को संपन्न कराएंगे। उन्होंने बताया कि मेला आईजी के निर्देश पर शीघ्र ही मेला आईजी और हरिद्वार के सभी धर्मशाला प्रबंधकों की एक वर्चुअल बैठक आयोजित की जाएगी। जिसमें धर्मशालाओं से संबंधित कुंभ मेले की तैयारियों को अंतिम रूप दिया जाएगा। इस अवसर पर सभी पदाधिकारियों ने हर की पैड़ी का एक प्राचीन और अति दुर्लभ चित्र भी मेला आई.जी को भेंट किया। बैठक में क्षेत्रीय धर्मशाला प्रबंधक समिति के संरक्षक गोपाल सिंघल, विजय शंकर दुबे, शिवकुमार शर्मा,रमेश मिट्ठा, विष्णु गोस्वामी आदि उपस्थित रहे।