कनाडा ले जाने के नाम पर छात्रा से चण्डीगढ़ में किया दुष्कर्म,लाखों रूपये की ठगी

हरिद्वार। भेल निवासी एक छात्रा के साथ चंडीगढ़ में एक एनआरआई ने कनाडा ले जाने के नाम पर दुष्कर्म किया। शारीरिक संबंध बनाने के बाद छात्रा से एनआरआई ने विवाह कर लिया। आरोप है कि शादी के बाद भी एनआरआई ने दुष्कर्म किया और उसके परिवार वालों ने छात्रा के साथ मारपीट की। आरोप है कि पति और उसके ससुराल वालों ने छात्रा से 19 लाख रुपये ठग लिए। रानीपुर पुलिस ने आरोपी पति समेत कई अन्य लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। पुलिस के मुताबिक भेल हरिद्वार निवासी एक युवती ने शिकायत देकर बताया कि वर्ष 2018 में वह चंडीगढ़ में रहकर बायोटेक्नोलॉजी की पढ़ाई कर रही थी। आगे की पढ़ाई के लिए उसे कनाडा जाना था। इसी दौरान वर्ष 2018 में उसकी एक चंडीगढ़ निवासी परिचित महिला से मुलाकात हुई। छात्रा ने कनाडा जाने की बात महिला को बताई। महिला ने अपने एनआरआई मित्र निर्भय राणा से मोबाइल पर उसकी बातचीत करा दी। निर्भय ने कनाडा में दाखिले के लिए मदद का आश्वासन दिया। निर्भय की ओर से बताये गए खर्च के मुताबिक छात्रा ने पैसे निर्भय के कहने पर कई खातों में डाल दिये। छात्रा को बताई गई तारीख निकल गई लेकिन उसको वीजा नहीं मिल सका। जब छात्रा ने रकम वापस देने की बात कही तो निर्भय 10 अप्रैल 2019 को चंडीगढ़ आ गया। अगले दिन निर्भय ने छात्रा के सामने शादी का प्रस्ताव रखा और आश्वस्त किया गया शादी के बाद उसको स्पाउस वीजा मिल जाएगा। आरोप है कि अगले दिन छात्रा को उसके पीजी के पास लेकर निर्भय ने शारीरिक संबंध बनाये और इसकी वीडियो भी बना ली। 17 अप्रैल को दोनों ने शादी कर ली। शादी में कई लाख रुपये खर्च हुए, जो पैसे छात्रा ने स्वयं खर्च किये। शादी में छात्रा के परिजन भी शामिल नहीं हुए। आरोप है कि शादी की रात भी निर्भय ने नशीला पदार्थ पिलाकर उसके साथ दुष्कर्म किया। कई बार उसके साथ दुष्कर्म किया गया। 14 मई को निर्भय वापस कनाडा चला गया। आरोप है कि इसके बाद स्पाउस वीजा के लिए उसने अप्लाई किया। लेकिन स्पाउस वीजा नहीं मिल सका। छात्रा ने आरोप लगाया है कि उसके साथ निर्भय के चंडीगढ़ निवासी पिता अमराव, मां सुधा रानी, बहन हिमांशी, रिश्तेदार उदय प्रताप ने कई बार मारपीट की। आरोप है कि करीब 19 लाख रुपये छात्रा से परिवार वाले ले चुके हैं। मई वर्ष 2020 में छात्रा हरिद्वार आई थी। रानीपुर कोतवाली प्रभारी योगेश सिंह देव ने बताया कि केस दर्ज कर लिया गया है। कोतवाल योगेश सिंह देव ने बताया कि घटनास्थल चंडीगढ़ का होने के कारण इस मामले में जीरो एफआईआर दर्ज की गई है। इसको चंडीगढ़ भेजा जा रहा है।