लाइसेंसी रिवाल्वर से अपने सिर में गोली मारकर आचार्य ने की आत्महत्या,पुलिस जांच मे जुटभ्

हरिद्वार। कोतवाली ज्वालापुर क्षेत्र में एक आचार्य ने लाइसेंसी रिवाल्वर से अपने सिर में गोली मारकर खुदकुशी कर ली। पुलिस ने मौके से रिवाल्वर, तीन जिंदा कारतूस और एक खोखा व चली हुई बुलेट बरामद कर ली है। मौके से मिले सुसाइड नोट में पुजारी ने लिखा है कि जीवन जीने की इच्छा खत्म होने के कारण वह आत्महत्या कर रहे हैं। फिलहाल, पुलिस ने मामले की छानबीन शुरू कर दी है। पुलिस के मुताबिक विनीत शास्त्री वाशिंकर निवासी शरद विहार कॉलोनी निकट अवधूत मंडल आश्रम में पूजा पाठ का काम करते थे। वह हरिद्वार से बाहर दूसरे शहरों में जाकर भी पूजा-पाठ संपन्न कराते थे। रविवार की शाम विनीत शास्त्री ने अपने कमरे में जाकर रिवॉल्वर से खुद को गोली मार ली। आवाज सुनकर उनकी मां और परिवार के बाकी सदस्य दौड़कर कमरे में पहुंचे तो देखा कि विनीत शास्त्री खून से लथपथ फर्श पर पड़े हुए थे। आनन-फानन में उन्हें रानीपुर मोड़ पर एक निजी अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। पुजारी की खुदकुशी की सूचना पर ज्वालापुर कोतवाल प्रवीण सिंह कोश्यारी मौके पर पहुंचे और रिवाल्वर कब्जे में ले ली। मौके से तीन कारतूस और एक खाली खोखा भी बरामद हुआ। कमरे की तलाशी लेने पर एक सुसाइड नोट भी पुलिस को मिला है, जिसमें पुजारी ने लिखा है कि जीवन जीने की इच्छा खत्म हो गई है, जिस कारण वह आत्महत्या कर रहे हैं। कोतवाल प्रवीण सिंह कोश्यारी ने बताया कि पुजारी का परिवार मूलरूप से महाराष्ट्र का निवासी है। 10 साल पहले उनके पिता हरिद्वार आकर बस गए थे। पुजारी अविवाहित थे और हरिद्वार में अपनी मां के साथ रहते थे, जबकि उनके दो भाई दूसरे शहर में काम करते हैं। कोतवाल कोश्यारी ने बताया कि सुसाइड नोट के आधार पर मामले की छानबीन शुरू कर दी गई है।