पटवारी पर लगाया एससी नाम से दर्ज जमीन को फर्जी तरीके बेचने का आरोप

हरिद्वार। डा.मनोज कुमार-भू व्यवसायी प्रदीप चैधरी ने लेखपाल पर बहादराबाद क्षेत्र के पूरणपुर साल्हापुर ग्राम की अनुसूचित जाति के नाम दर्ज जमीन फर्जी तौर पर उन्हे बेचने का आरोप लगाया है। मध्य हरिद्वार स्थित एक रेस्टारेंट में पत्रकारों से वार्ता करते हुए प्रदीप चैधरी ने बताया कि लेखपाल फर्जी दस्तावेजों के साथ रजिस्ट्री कराकर जो जमीन उन्हें बेचना चाहता था। उसमें ग्राम समाज की भूमि के साथ सरकारी तालाब भी शामिल है। तालाब के साथ क्षेत्र के लोगों की धार्मिक मान्यताएं भी जुड़ी हुई हैं। चार करोड़ रूपए का भुगतान करने के बाद फर्जीवाड़े का पता चलने पर उन्होंने इसकी शिकायत जिला अधिकारी से की है। जिसकी जिला प्रशासन द्वारा जांच की जा रही है। प्रदीप चैधरी ने एक दर्जाधारी राज्यमंत्री भी आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि दर्जा मंत्री अपने पद के प्रभाव में पटवारी को बचाने का प्रयास कर रहे हैं। उन पर पूरा मामला 25 लाख रूपए में निपटाने का दबाव बनाया जा रहा है। उन्हें धमकी भी दी जा रही है। जिससे वह मानसिक रूप से बेहद परेशान हैं। पद का दुरूपयोग कर पार्टी की छवि खराब रहे मंत्री को भाजपा से तत्काल निष्कासित करना चाहिए। उन्होंने सबूतों सहित पूरे मामले की शिकायत सीबीआई से भी की है। यदि सरकार व प्रशासन से उन्हें न्याय नहीं मिला तो न्यायालय में गुहार लगाएंगे। हिन्दु रक्षा सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष म.म.स्वामी प्रबोधानंद गिरी महाराज ने कहा कि उत्तराखण्ड भूमाफियाओं का गढ़ बन गया है। भूमाफिया अवैध रूप से जमीने कब्जा कर बेच रहे हैं। जिससे आपराधिक गतिविधियां बढ़ रही हैं। सरकार को इस संबंध में कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए। फर्जीवाड़ा कर अनुसूचित जाति, ग्राम समाज व लोगों की धार्मिक मान्यताओं से जुड़े तालाब की भूमि बेचने का मामला अत्यंत संगीन है। सरकारी पद पर आसीन व्यक्ति द्वारा लेखपाल को बचाने का प्रयास करने से यह और भी गंभीर हो जाता है। फर्जीवाड़े से संबंधित लोगों के खिलाफ सरकार को कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए। जमीन के फर्जीवाड़े से जुड़े होने का आरोप लगने के बाद दर्जा राज्य मंत्री को खुद ही नैतिकता के आधार पर पद से त्यागपत्र दे देना चाहिए। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इस मामले में तत्काल कड़ी कार्रवाई करते हुए दर्जामंत्री को पद से नहीं हटाया तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह व भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात कर उनसे कार्रवाई की मांग की जाएगी।