राज्य आंदोलन में सहयोग करने वाले सभी आंदोलनकारियों का चिन्हीकरण किया जाए

हरिद्वार। चिन्हित राज्य आंदोलनकारी समिति के संरक्षक पूर्व राज्यमंत्री धीरेंद्र प्रताप ने मेला अधिकारी दीपक रावत व मेयर अनिता शर्मा से मुलाकात कर एक घाट व एक सड़क या चैराहे का नामकरण समिति के अध्यक्ष व प्रमुख राज्य आंदोलनकारी स्व.जेपी पाण्डे के नाम पर करने की मांग की है। राज्य अतिथी गृह डाम कोठी में पत्रकारों से वार्ता करते हुए धीरेंद्र प्रताप ने कहा कि हरिद्वार जनपद को उत्तराखण्ड में सम्मिलित कराने में समिति के अध्यक्ष स्व.जेपी पाण्डे का अहम योगदान रहा है। उनके योगदान को देखते हुए एक गंगा घाट व किसी सड़क या चैराहे का नामकरण उनके नाम पर किया जाना चािहए। धीरेंद्र प्रताप ने कहा कि 10 नवंबर को स्व.जेपी पाण्डे की प्रथम पुण्य तिथी पर आयोजित श्रद्धांजलि समारोह में राज्य निर्माण आंदोलन में योगदान करने वाले प्रदेश भर के सभी राज्य आंदोलनकारी हरिद्वार पहुंचकर स्व.पाण्डे को श्रद्धासुमन अर्पित करेंगे। इस दौरान चिन्हीकरण सहित राज्य आंदोलनकारियों की विभिन्न समस्याओं पर विचार विमर्श कर संगठन को गतिशील बनाने के संबंध में निर्णय लिया जाएगा। धीरेंद्र प्रताप ने सरकार से मांग करते हुए कहा कि राज्य आंदोलन में सहयोग करने वाले सभी आंदोलनकारियों का चिन्हीकरण किया जाए तथा आंदोलन को पाठ्यक्रम में सम्मिलित करने के साथ आंदोलनकारियों के सम्मान में एक संग्रहालय की स्थापना की जाए। ताकि भावी पीढ़ी भी आंदोलन को जान सके। उन्होंने कहा कि बेरोजगारी के मामले में उत्तराखण्ड देश में शीर्ष पर है। प्रदेश सरकार युवाओं को रोजगार देने में पूरी तरह विफल साबित हुई है। रोजगार को मुद्दा बनाते हुए जल्द ही आंदोलन की शुरूआत की जाएगी। इस दौरान विजय भण्डारी, कालूराम जैपुरिया, भगवान जोशी, रविन्द्र भट्ट, सुरेंद्र सैनी, मधु नोटियाल, जितेंद्र गौड़, मीरा रतूड़ी, सावित्री नेगी, मधु नौटियाल, मुन्नालाल आदि सहित कई कार्यकर्ता मौजूद रहे।