राज्य स्थापना दिवस पर कांग्रेस ने किया गोष्ठी का आयोजन

हरिद्वार। महानगर कांग्रेस कमेटी के तत्वाधान में सोमवार को राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर गत 20 वर्षों में उत्तराखंड की जनता ने क्या खोया, क्या पाया विषय पर गोष्ठी का आयोजन किया गया। गोष्ठी में उपस्थित कांग्रेस कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए प्रदेश कांग्रेस महासचिव डॉ. संजय पालीवाल ने कहा कि जब कांग्रेस की सरकारें आईं तो उन्होंने उत्तराखंड का भरपूर विकास किया जिसमें कई जगह सिडकुल खोलकर नए नए उद्योग लगाए गए। जिससे यहां रोजगार बढ़ा। कर्णप्रयाग तक रेल लाइन की योजना बनाकर उसका खाका तैयार कर उद्घाटन हुआ। गेल द्वारा गैस की पाइप लाइन डालने का कार्य की शुरुआत भी कांग्रेस की विकासवादी सोच के चलते ही संभव हुआ। लेकिन भाजपा की सरकारों ने कुछ नया करने के बजाय इन योजनाओं को ही पुनः चालू करने का कार्य किया। महानगर अध्यक्ष संजय अग्रवाल ने कहा कि हरिद्वार को 20 वर्षों में कांग्रेस ने नगर निगम में टाउन हॉल, सीसीआर, शहर में यातायात को सुचारू करने के लिए रोड डिवाइडर, इनडोर स्टेडियम, शहर में पुल दिए, परंतु भाजपा ने शहर को एक भी विकास का कार्य नहीं दिया। पूर्व विधायक अमरीष कुमार व पूर्व विधायक रामयशसिंह ने कहा कि कांग्रेस ने अल्पसंख्यकों के लिए हज हाउस, अनुसूचितों के लिए अलग से विभाग बनाए, परंतु भाजपा ने इन पर अमल ना करके इनको निष्क्रिय करने का कार्य किया। पूर्व पालिका अध्यक्ष प्रदीप चैधरी व कार्यकारी अध्यक्ष रवि बहादुर ने कहा कि आज प्रदेश में जंगलराज हो गया है जिसे दूसरे प्रदेश के लोग भी मानते हैं। गोष्ठी में मुख्य रूप से ओ.पी.चैहान, राजवीर सिंह चैहान, बलजीत सिंह, महेश प्रताप राणा, यशवंत सैनी, शैलेंद्र सिंह एडवोकेट, रवि कश्यप, विशाल राठौर, गुलबीर सिंह, अनिल भास्कर, अशोक उपाध्याय, बीएस तेजियान, कैलाश प्रधान, दिनेश पुंडीर, सीपी सिंह, हिमांशु बहुगुणा, बीना कपूर, सुषमा सहगल, शिवकुमार जोशी, सुनील कुमार सिंह, शाहनवाज कुरेशी, जफर अब्बासी पार्षद, तहसीन अहमद पार्षद, अजय शर्मा पार्षद, अरविंद चंचल, विपिन पैवल, राव फरमान, वीरेंद्र भारद्वाज, एलएस रावत, जगदीश प्रसाद, सुधांशु जोशी, जगदीप असवाल, नवाज अब्बासी, सत्यपाल शास्त्री, सुखपाल सिंह, करण सिंह राणा, रोहतास सैनी, विकास बोरा, अरशद राणा, मनीराम बागड़ी, मिर्जा नौशाद बेग, रईस अब्बासी, दिव्यांश अग्रवाल, नासिर गौड, श्याम सिंह, हरिशंकर प्रसाद, दिनेश दुबे, सत्यजीत, कुशल पाल आदि मुख्य रूप से उपस्थित रहे।