स्पर्श गंगा परिवार ने की गंगा को राष्ट्रीय धरोहर घोषित करने की मांग

हरिद्वार। स्पर्श गंगा परिवार ने गंगा को राष्ट्रीय धरोहर घोषित करने की मांग की है। कनखल स्थित स्पर्श गंगा कार्यालय में आयोजित गंगा उत्सव के दौरान संयोजिका रीता चमोली ने कहा कि प्रदेशवासियों के लिए गौरव का विषय है कि उत्तराखंड के गंगोत्री ग्लेशियर से निकलने वाली गंगा भारत की सबसे लंबी व पवित्र नदी है। देश दुनिया के करोड़ों लोगों की आस्था की प्रतीक गंगा को राष्ट्रीय धरोहर घोषित किया जाना चाहिए। रजनी वर्मा ने कहा कि देश की जीवन रेखा माने जानी गंगा देश के बड़े भूभाग को सिंचित करती है। गंगा हमारे जीवन का आधार है। हिन्दु मान्यताओं के अनुसार जन्म से लेकर अंतिम संस्कार तक सब में गंगाजल की आवश्यकता पड़ती है। जीवनदायिनी मोक्षदायिनी गंगा आज अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रही है और इस लड़ाई में स्पर्श गंगा परिवार निरंतर गंगा की स्वच्छता एवं अविरलता बनाए रखने के लिए संकल्पबद्ध है। इस अवसर पर आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रमों में नन्हें मुन्ने बच्चों साक्षी, मीनाक्षी, अर्पित, रिद्धि श्री, राजवंश, साक्षी, मीनाक्षी ने गंगा मंदिर, गंगा अवतरण आदि पर सुन्दर नृत्य नाटिकाएं व सांस्कृति प्रस्तुतियां दी। कार्यक्रम का संचालन रीमा गुप्ता ने किया। इस दौरान रीता चमोली, रेनू शर्मा, मंजू रावत,अमरीन, रूबी बेगम, विमला ढोडियाल, सविता पवार, राजेश लखेरा, रीमा गुप्ता, अंश मल्होत्रा, रजनीश आदि उपस्थित रहे।