आरटीआई कार्यकत्ता रहे स्व.पंकज लांबा को दलित संगठनों ने दी श्रद्धांजलि

 हरिद्वार। दलित संगठनों ने स्व.पंकज लांबा को श्रद्धांजलि सभा का आयोजन कर श्रद्धासुमन अर्पित किए और सरकार से उनके परिवार को 50 लाख रूपए की आर्थिक सहायता, पत्नि का सरकारी नौकरी तथा बच्चों को निःशुल्क शिक्षा देने की मांग की है। इस दौरान एक 13 सदस्यीय समिति भी गठित की गयी। समिति एसएसपी सहित पुलिस के उच्चाधिकारियों से मिलकर हत्याकाण्ड की उच्चस्तरीय जांच की मांग करेगी।

भेल सेक्टर वन स्थित रविदास मंदिर में आयोजित श्रद्धांजलि सभा को संबोधित करते हुए जिला पंचायत सदस्य रोशनलाल ने कहा कि प्रदेश में चल रहे छात्रवृत्ति घोटाले का पर्दाफाश करने वाले सामाजिक कार्यकर्ता पंकज लांबा की हत्या से दलित समाज को गहरा आघात लगा है। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने में उनका योगदान सदैव याद किया जाएगा। पंकज लांबा की जागरूकता व सक्रियता से इस घोटाले का पर्दाफाश हुआ। तीर्थपाल रवि व चमार वाल्मिीकि महासंघ के अध्यक्ष भंवर सिंह ने कहा कि पंकज लांबा की हत्या बेहद दुखद घटना है। दलित समाज ने एक जागरूक प्रहरी खो दिया है। सरकार को छात्रवृत्ति घोटाले का पर्दाफाश कर करोड़ों का राजस्व बचाने वाले पंकज लांबा के परिवार को 50 लाख आर्थिक सहायता, उनकी पत्नि को सरकारी नौकरी व बच्चों की निःशुल्क शिक्षा का इंतजाम करना चाहिए। सीपी सिंह व सुनील कड़च्छ ने कहा कि पंकज लांबा दलित समाज की भूमि पर अवैध कब्जों के खिलाफ भी सक्रिय रूप से काम कर रहे थे। पुलिस को जांच का दायरा बढ़ाना चाहिए। क्योंकि पंकज लांबा लंबे समय से उच्च शिक्षण संस्थानों के अलावा भूमाफियाओं की नजर में थे। ऐस में पूरे घटनाक्रम पर पुलिस को फोकस करने की आवश्यकता है। श्रद्धांजलि देने वालों में उमेश बोस, राजेंद्र श्रमिक, आशीष दुबे, अमरदीप रोशन, छोटू जयंत, बालेश्वर सिंह, सतीश कुमार, दीपक मौर्य, विजयपाल, एडवोकेट विनोद आजाद, रणबीर गौतम, ओमप्रयास, भानपाल रवि, नसीर अहमद, रणवीर गौतम, दर्शनलाल, अशोक उपाध्याय, इंजीनियर एसपी सिंह, जितेंद्र तेश्वर, सुनील कुमार, मंजीत नौटियाल, महेंद्र परालिया, रफलपाल, कदम सिंह, एडवोकेट जसवीर, एडवोकेट रूप सैनी, बिजेंद्र ठेकेदार, नरेंद्र मास्टर, उदयवीर, अरूण कुमार, जटाशंकर श्रीवास्तव, उमेश शर्मा, नेत्रपाल अटवाल, राजेश गौतम, पीएल कपिल, मेहर सिंह, संत कुमार, मनोज कुमार, प्रिया एडवोकेट, अरूण लांबा, ज्योति लांबा, माता सरोज बाला, राजेंद्र जाटव आदि शामिल रहे।