समीक्षा बैठक में जिलाधिकारी ने लगाई अमृत योजना के अधिकारियों को फटकार

 


हरिद्वार। जिलाधिकारी सी0 रविशंकर की अध्यक्षता में शनिवार को मेला नियंत्रण भवन(सी0सी0आर0) में जिला जल एवं स्वच्छता मिशन(डीडब्ल्यूएसएम) की समीक्षा बैठक में जिलाधिकारी को अधिकारियों ने जिला जल एवं स्वच्छता मिशन के तहत ग्रामीण इलाकों के आंगनबाड़ी केन्द्रों व स्कूलों में शुद्ध व साफ पानी आपूर्ति के सम्बन्ध में हुई प्रगति की जानकारी दी। जिलाधिकारी ने अधिकारियों से इन योजनाओं की डी0पी0आर0 के सम्बन्ध में भी विस्तृत जानकारी ली और अधिकारियों को निर्देश दिये कि आगामी मार्च तक सभी डी0पी0आर0 पूर्ण हो जाने चाहिये। जिलाधिकारी ने जल निगम के अधिकारियों को बिना पूर्व अनुमति के मुख्यालय से बाहर रहने पर कड़ी फटकार लगाते हुये कहा कि तीन नोटिस के बाद प्रतिकूल प्रविष्टि दी जा सकती है। उन्होंने कहा कि जो भी काम करना है, उसे मन लगाकर करिये। अमृत योजना के अधिकारियों को भी जिलाधिकारी ने सन्तोषजनक जवाब न मिलने पर कड़ी फटकार लगाई। जिलाधिकारी ने शिक्षा विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे बाल विकास विभाग के साथ बैठक कर यह स्थिति स्पष्ट करें कि कितने स्कूलों में पानी उपलब्ध है तथा उसकी क्या स्थिति है, के सम्बन्ध में तीन दिन के भीतर अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करें। जिलाधिकारी ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे डी0पी0आर0 से पहले एक्शन प्लान अवश्य देखें ताकि वर्तमान की आवश्यकताओं के अनुसार डी0पी0आर0 बने।जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि वे मानकों व प्रक्रियाओं का पालन करते हुये निर्धारित लक्ष्य को ससमय प्राप्त करने में आपसी सहयोग व एकजुट होकर कार्य करें तथा निर्धारित किये गये लक्ष्य के सापेक्ष कितना लक्ष्य प्राप्त किया, उसका विवरण भी प्रस्तुत करें। समीक्षा बैठक में मुख्य विकास अधिकारी श्री विनीत तोमर, जल संस्थान, जल निगम, स्वास्थ्य, शिक्षा सहित जल एवं स्वच्छता मिशन से जुड़े अधिकारीगण एवं एन0जी0ओ0 उपस्थित थे।