राजस्थान परिवहन बसो के अवैध संचालन को बंद करने की मांग

 हरिद्वार। उत्तराखंड रोडवेज कर्मचारी यूनियन से जुड़े कर्मचारियों ने मासिक बैठक कर राजस्थान परिवहन की बसों के अवैध संचालन को बंद करने की मांग उठाई। आरोप लगाया कि पंतदीप पार्किंग से अवैध रूप से संचालन किया जा रहा है। बैठक में कई मांगों पर कर्मचारियों ने चर्चा की। शनिवार को हरिद्वार बस अड्डा परिसर स्थित यूनियन कार्यालय में मासिक बैठक आयोजित की गई। क्षेत्रीय अध्यक्ष प्रवीण कुमार सैनी ने कहा कि जेएनएनयूआरएम और उत्तराखंड परिवहन निगम का एकीकरण किया जाए। बाहरी राज्यों पर अनुबंधित बसें संचालित न की जाए। लंबित वेतन का भुगतान जल्द कराते हुए चालक-परिचालकों को राहत दी जानी चाहिए। लंबे समय से वेतन न मिलने से कर्मचारियों के सामने संकट खड़ा हो रहा है। चंडीगढ, जम्मू, पुष्कर और पर्वतीय मार्गों पर नई बसों को लगाया जाए। शाखा अध्यक्ष रामपाल शर्मा ने कहा कि बस अड्डे के बाहर अवैध रूप से डग्गामारी की जा रही है। इस पर रोक लगाई जाए, ताकि रोडवेज को नुकसान न हो। शाखा मंत्री मिथुन अरोड़ा ने कहा कि 24 घंटे डीजल मिलने की व्यवस्था होने से चालक-परिचालकों को परेशानी नहीं होगी। कहा कि लिपिकों के अभाव में पटलों पर वरिष्ठ परिचालकों से कार्य लिया जाए। बस अड्डे पर लगे जनरेटर को लेकर जिम्मेदारी तय की जानी चाहिए। जरूरत पड़ने पर अक्सर जनरेटर रात में खराब मिलता है। चंडीघाट चैक पर नजीबाबाद की टैक्सियां यात्री लेकर जा रहे हैं। इन पर रोडवेज को कार्रवाई करनी चाहिए। बैठक में सतेंद्र सिंह, सीमोन, राजेंद्र शर्मा, रोहित सैनी, इमरान, भागमल, मोतीराम, सचिन, विकास कुमार, संजीव, पुनीत कुमार, अजय सैनी, बलवंत सिंह, अंकित राठी, संजय शर्मा आदि शामिल रहे।