निरंजनी अखाड़े में तेरह अखाड़ों के संतों ने शॉल ओढ़ाकर और गंगा माता की मूर्ति भेंट कर उनका किया स्वागत

 हरिद्वार।एस.के.झा-हरिद्वार दौरे पर आए भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा का श्री पंचायती अखाड़ा निरंजनी में संतों फूलमालाएं पहनाकर भव्य स्वागत किया। नड्डा ने संतों से मुलाकात कर आशीर्वाद लिया और बातचीत भी की। शुक्रवार को हरिद्वार दौरे पर रहे जेपी नड्डा, केंद्रीय मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक श्री पंचायती अखाड़ा निरंजनी पहुंचे। अखाड़े में मां मनसा देवी मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष व निरंजनी अखाड़े के सचिव श्रीमहंत रविंद्रपुरी महाराज, महामंडलेश्वर बालकानंद गिरी समेत सभी तेरह अखाड़ों के संतों ने फूलमालाएं पहनाकर व शॉल ओढ़ाकर और गंगा माता की मूर्ति भेंट कर उनका स्वागत किया। जेपी नड्डा ने अखाड़े में स्थित भगवान कार्तिकेय मंदिर में पूजन किया और संतों का आशीर्वाद लिया। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के महामंत्री श्रीमहंत हरिगिरि महाराज ने भी नड्डा स्वागत कर आशीर्वाद प्रदान किया। संतों से आशीर्वाद पाकर गद्गद हुए भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि मां गंगा और संतों के आशीर्वाद से 120 दिन की यात्रा की शुरुआत हरिद्वार से कर रहे हैं। देशभर में यात्रा कर पार्टी को और ज्यादा मजबूत करने का काम करेंगे। पूरी ताकत से अध्यात्म के रास्ते पर चलकर भारत को मजबूत बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। मां गंगा व संतों के आशीर्वाद से देश लगातार आगे बढ़ रहा है। श्रीमहंत रवींद्र पुरी महाराज ने कहा कि जेपी नड्डा के नेतृत्व में भाजपा को और मजबूती मिलेगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कश्मीर से धारा 370 हटाने के साथ  अयोध्या में श्री राम मंदिर निर्माण के लिए बहुत अच्छा काम किया है। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह, भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के कार्यों की प्रशंसा की। कार्यक्रम की अध्यक्षता महामंडलेश्वर स्वामी बालकानंद गिरी महाराज ने की। इस अवसर पर श्रीमहंत राम रतन गिरी, महामंडलेश्वर स्वामी कैलाशानंद ब्रह्मचारी, श्रीमहंत दुर्गादास, महंत हरिगिरि, मुखिया महंत भगत राम, श्रीमहंत प्रेम गिरी, महंत रविन्द्रपुरी, म.म.स्वामी सोमेश्वरानन्द गिरी, महंत निर्मलदास, श्रीमहंत सत्यगिरी, महंत देवानंद सरस्वती, श्रीमहंत साधनानंद, महंत जगजीत सिंह, महंत देवेंद्र सिंह शास्त्री, कोठारी महंत दामोदर दास, महंत जसविंदर सिंह, महंत विष्णु दास, दिगंबर बलवीर पुरी, महंत मनीष भारती, डोंगर गिरी, महंत रविपुरी, महंत सुखदेव गिरि, महंत नरेश गिरी, दिगंबर नीलकंठ गिरी, दिगंबर गंगा गिरि, दिगंबर राजेंद्र भारती, दिगंबर राजगिरी, श्रीमहंत विनोद गिरी, महंत लालितानांद गिरी, संत जगजीत सिंह शास्त्री, स्वामी रघुवन, स्वामी राजगिरी, महंत देवानंद, मौजूद रहे।



Comments