एक जनवरी से प्रारम्भ होगी ओबीसी महासभा की रथयात्रा

 हरिद्वार। अखिल भारतीय ओबीसी महासभा की बैठक में हरिद्वार से दिल्ली तक ओबीसी समाज की रथ यात्रा एक जनवरी से शुरू करने की घोषणा की गई। रथ यात्रा पूरे देश में 2021 से होने वाली राष्ट्रीय जनगणना में ओबीसी समाज की गिनती करवाने का आग्रह करने के लिए होगी। यात्रा के संयोजक की जिम्मेदारी भी बैठक में दी गई। प्रदेशभर के प्रतिनिधियों ने पहुंचकर बैठक में हिस्सा लिया। रविवार को पुराना रानीपुर मोड़ स्थित जमुना पैलेस के समीप पाल मैंसन हॉल में अखिल भारतीय ओबीसी महासभा के राष्ट्रीय सचिव विजय सिंह पाल की अध्यक्षता में बैठक आयोजित की गई। प्रदेश अध्यक्ष रामबच्चन राजभर ने कहा कि ओबीसी समाज की रथ यात्रा की शुरुआत एक जनवरी से होगी। यात्रा हरिद्वार से प्रारंभ की जाएगी। दिल्ली तक यात्रा निकाली जाएगी। इस यात्रा के माध्यम से राष्ट्रीय जनगणना में ओबीसी समाज की गिनती करवाने का आग्रह किया जाएगा। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में ओबीसी समाज के लिए 27 फीसदी आरक्षण लागू किया जाए। पर्वतीय क्षेत्रों में दिए जा रहे क्षेत्रों के आधार पर ओबीसी आरक्षण को जल्द समाप्त किया जाना चाहिए। उन्होंने पर्वतीय क्षेत्र के लोगों को आय के आधार पर मिलने वाले सवर्ण आरक्षण के साथ-साथ ओबीसी आरक्षण के दोहरे लाभ की विसंगति को समाप्त करने का आह्वान किया। राष्ट्रीय सचिव विजय पाल सिंह ने बताया कि संवैधानिक आरक्षण संघर्ष मोर्चा की ओर से दिल्ली तक निकाली जाने वाली रथ यात्रा का संयोजक जयभगवान कश्यप, राकेश कुमार कश्यप, देवेंद्र कश्यप को बनाया गया। संयोजकों ने जनजागरण करने का आह्वान किया। बैठक का संचालन नरेंद्र कुमार ने किया। इस दौरान मनोज बर्छीवाल, नरेश सैनी, वेद प्रकाश पाल, स्वेता श्रीवास्तव, विजेंद्र पाल, अमीर सत्यार्थी, अनीता राणा, राजवीर गौतम, रामलाल प्रजापति, केपी सिंह, संदीप सिंघानिया, गुमान लाल बैर्बान, महावीर सिंह, बुद्ध सिंह कश्यप आदि शामिल रहे।