पुलिस पर हमला कर फरार होने वाले वाहन चोर गिरफ्रतार

 आरोपी के पास से पुलिस ने चोरी की कार,दो बुलेट की बरामद

हरिद्वार। कोतवाली रानीपुर पुलिस ने तीन दिन पहले आधी रात को चेैकिंग के दौरान सिपाही पर ईंट और पत्थर से सिपाही पर हमला कर फरार हुए दो वाहन चोरों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। उनसे शिवालिकनगर क्षेत्र से चुराई गई कार और दो बुलेट भी बरामद हो गई हैं। वाहन चोर और सिपाही पर हमले का मुख्य आरोपित अभी पकड़ से बाहर है। पुलिस उसकी तलाश कर रही है। पुलिस के मुताबिक गुरुवार रात रानीपुर कोतवाली क्षेत्र के शिवालिकनगर में अलग-अलग जगहों से एक कार और दो बुलेट चोरी होने की सूचना वायरलैस पर फ्लैश होने पर सलेमपुर पिकेट पर तैनात कांस्टेबल विक्रम चैहान और लायक राम शर्मा चेकिंग कर रहे थे। रोकने पर बुलेट सवार युवक भाग निकले थे। पीछा करने पर युवक और उसके साथियों ने कांस्टेबल विक्रम के सिर पर ईंट और पत्थर से हमला कर दिया था। दूसरे कांस्टेबल ने लहूलुहान साथी को जब तक संभाला, तब तक आरोपित भाग निकले थे। पुलिस ने वाहन चोरी के साथ ही पुलिस पर हमला करने के संबंध में जानलेवा हमले का मुकदमा भी अज्ञात के खिलाफ दर्ज किया था। कोतवाली प्रभारी योगेश सिंह देव के नेतृत्व में पुलिस टीम ने मंगलवार को दो संदिग्धों को सलेमपुर क्षेत्र से गिरफ्तार किया। उनकी निशानदेही पर पुलिस ने शिवालिकनगर से चोरी हुई एक कार और दो बुलेट भी बरामद कर ली। आरोपितों ने अपने नाम फरहान निवासी खजूरी किला, परीक्षितगढ़ और हर्ष गोस्वामी निवासी मवाना अड्डा किला परीक्षितगढ़ मेरठ बताया। पूछताछ में उन्होंने अपने तीसरे साथी अफजल निवासी किला परीक्षितगढ़ मेरठ के साथ मिलकर वाहन चोरी और पुलिसकर्मी पर हमले की घटना कुबूल की। पुलिस ने दोनों को कोर्ट में पेश किया, जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया। रानीपुर कोतवाली प्रभारी योगेश सिंह देव ने बताया कि अफजल के पास सात से आठ मास्टर चाबियां होने की जानकारी मिली है। उसके साथियों ने बताया है कि अफजल किसी भी गाड़ी को देखते ही बता देता है कि उसमें कौन सी मास्टर चाबी लगेगी। गिरफ्तार दोनों आरोपितों के कब्जे से भी पुलिस ने एक मास्टर चाबी बरामद की है। पुलिस ने बरामद बुलेट में मास्टर चाबी लगाकर देखी तो वह तुरंत स्टार्ट हो गई। फरार अफजल के खिलाफ मेरठ क्षेत्र में ही वाहन चोरी के आठ से 10 मुकदमे दर्ज हैं। पकड़े गए फरहान और हर्ष ने बताया कि वह तीन चार महीने पहले अफजल के संपर्क में आए थे। उन्होंने दावा किया कि हरिद्वार में वह वाहन चोरी को अंजाम देने पहली बार आए थे। पुलिस टीम में रानीपुर कोतवाली प्रभारी योगेश सिंह देव, एसएसआइ विक्रम धामी, गैस प्लांट चैकी प्रभारी प्रवीन रावत, हैड कांस्टेबल दिलीप सिंह चैहान, कांस्टेबल प्रदीप भंडारी, लायकराम और विक्रम चैहान शामिल रहे। एसएसपी सेंथिल अवूदई कृष्णराज एस ने कहा कि तीसरे आरोपित अफजल की गिरफ्तारी के लिए दबिश दी जा रही है।