गुम हुए मोबाइल को बेईमानी से रखने के मामले में तीन आरोपी को दो-दो वर्ष की सजा

 हरिद्वार। गुम हुए मोबाइल को बेईमानी से रखने के मामले में तृतीय अपर एवं जिला सत्र न्यायाधीश भारत भूषण पांडेय ने तीन अभियुक्तों को दो-दो वर्ष के कठोर कारावास व प्रत्येक को दो-हजार रुपये के अर्थदंड की सजा सुनाई है। शासकीय अधिवक्ता कुशलपाल सिंह चैहान ने बताया कि 15 जुलाई 2017 को तत्कालीन एसआई देवेंद्र सिंह रावत अपनी टीम के साथ कोतवाली नगर क्षेत्र में शांति व्यवस्था बनाने के लिए गश्त कर रहे थे।उसी दौरान मुखबिर ने शिवपुल हरकी पैड़ी के नीचे बैठे चार लोगों को चोरी की योजना बनाने की सूचना दी थी। मौके पर पहुंचकर देखा कि चारों आरोपी युवक धर्मनगरी में जल भरने आए कावंड़ियों के मोबाइल चोरी करने की बात कर रहे हैं। पुलिस ने सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर उनके पास से दूसरे व्यकितयों के मोबाइल व औजार बरामद किए थे। इसके बाद पुलिस ने आरोपी कन्हैया पुत्र सोम कश्यप निवासी ग्राम धर्मपुरा थाना खानपुर हरिद्वार, दीपक पुत्र पवन निवासी मोहल्ला नेहरू मार्किट झुंझनूं राजस्थान, दीपक पुत्र कमल निवासी पुराना फरीदाबाद हरियाणा व हेमन्त पुत्र देवीराम निवासी पलवल हरियाणा  का चालान कर जेल भेज दिया था। शासकीय अधिवक्ता कुशलपाल सिंह चैहान ने साक्ष्य में चार गवाह पेश किए। अदालत  ने चैथे आरोपी हेमन्त की केस विचारण के दौरान मृत्यु होने पर उसके खिलाफ जारी कार्यवाही समाप्त कर दी गई थी।