पटवारी पर जमीन कब्जाने का आरोप पीड़ित महिला ने दी बच्चों सहित आत्मदाह की चेतावनी

 हरिद्वार। डाॅ मनोज कुमार-जीरों टारलेंस की सरकार में महिला द्वारा दो माह से पटवारी के खिलाफ जिलाधिकारी से लेकर प्रधानमंत्री तक पत्र के जरिये गुहार लगा चुकी है,लेकिन इंसाफ का इंतजार अभी भी बरकरार है। आखिरकार महिला ने परेशान होकर बच्चों सहित 30 दिसम्बर को आत्मदाह करने की चेतावनी दी है।

गुरूवार को पत्रकारों से वार्ता करते हुए पीड़िता ने जमालपुर स्थित 3 बीघा जमीन पर पटवारी पर अवैध कब्जा किए जाने का आरोप लगाते हुए कहा कि वे पिछले काफी दिनों से परेशान है। महिला का आरोप है कि उक्त मामले में शासन प्रशासन से लेकर प्रधानमंत्री कार्यालय तक शिकायत की गई। लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला। मजबूरन उसे आत्महत्या करने के लिए बाध्य होना पड़ रहा है। कामिनी रानी पत्नी विक्रांत चैहान निवासी पांडे वाला ज्वालापुर ने बताया कि जमालपुर में उनकी 3 बीघा जमीन पर पटवारी ने अवैध कब्जा करवा दिया है। इसकी शिकायत उन्होंने शासन प्रशासन के आला अधिकारियों से की। लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। इसके उपरांत 5 नवंबर को पत्रकारों के सामने भी अपनी बात रखी। जिला प्रशासन के संज्ञान मे ंभी पूरा मामला लाया गया। इसके बावजूद अभी तक कोई कार्रवाई नही की गई। दर दर भटकने के बा भी न्याय नहीं मिल रहा है। कामिनी ने आरोप लगाया कि उन्हें धमकाया भी जा रहा है। कामिनी ने यह भी आरोप लगाया कि पटवारी 30 बीघा सरकारी जमीन पर अवैध कब्जे करवा रहा है। महिला ने बताया कि निजी संपत्ति होने के बावजूद वे किराए के मकान में रहने को विवश हैं। चिंता से उसके पति मानसिक रूप से बीमार हो गए हैं। घर का खर्च चलाने के लिए कोई रोजगार भी नहीं है। बच्चों की पढ़ाई भी छूट गई है। बच्चों का भविष्य भी चैपट हो रहा है। कहीं से भी न्याय की उम्मीद नजर नहीं आ रही है। यदि न्याय नहीं मिला तो वे आत्महत्या करने को विवश होंगी। वही मामले में आरोपी पटवारी से जब इस सम्बन्ध में बात करने का प्रयास किया गया तो उनका कहना है कि उनके पास इतना समय नही है कि वे पत्रकारों से बात करे। गुरूवार को पत्रकार वार्ता में गोरी सेवा समिति के अध्यक्ष श्याम सिंह, उपाध्यक्ष नीतू कश्यप सहित कई लोग मौजूद रहे।