श्री पंचायती अखाडा बडा उदासीन निर्वाण की ओर से निर्धन,जरूरतमंदो को कंबल वितरण

 

हरिद्वार। श्री पंचायती अखाडा बडा उदासीन निर्वाण, राजघाट कनखल में कोठारी दामोदर दास के नेतृत्व में कंबल वितरण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें बड़ी संख्या में निर्धन एवं जरूरतमंद लोगों को कंबल वितरण किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए स्वामी महेश्वर दास महाराज ने कहा कि श्री पंचायती बड़ा अखाड़ा उदासीन सदैव जन कल्याण के कार्यकर्ता आया है ।इससे पूर्व भी अखाड़े की ओर से समय-समय पर अन्नदान, वस्त्र दान सहित अन्य कार्यक्रम आयोजित किए जाते रहे हैं। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर उपस्थित आईजी कुंभ मेला संजय गुंज्याल ने कहा कि अखाड़े को संतों का आशीर्वाद उन्हें सदैव मिलता रहा है। यह ईश्वर की कृपा है कि एक अधिकारी के तौर पर उन्हें कूंभ में सेवा करने का मौका मिला है जिसे वे पूरे सामर्थ्य से निर्वहन करने का प्रयास कर रहे हैं । कार्यक्रम में हरिद्वार की मेयर अनीता शर्मा ने कहा कि बड़े वाला अपने नाम के अनुरूप बड़े दिलवाला है। उन्होंने भी समय-समय पर अखाड़े की मदद से जनहित का कार्य संपन्न किया है। महामंडलेश्वर हरि चेतनानंद महाराज ने कहा कि सेवा ही मनुष्य का परम धर्म है। अगर कोई व्यक्ति अपने दाएं बाएं देख ले कि कोई भूखा तो नहीं सोया है तो ऐसा करने पर संसार में कोई व्यक्ति भूखा नहीं सो सकता ।हरिहर आश्रम के महंत कमल दास महाराज ने कहा की कंबल वितरण का कार्यक्रम निरंतर जारी रहेगा जिसमें 3000 लोगों को कंबल वितरण करने का लक्ष्य रखा गया है।रामकृष्ण मिशन बंगाली अस्पताल से आए स्वामी दयाधीपानन्द महाराज ने कहा कि संतों के आशीर्वाद से ही उनके अस्पताल में गरीबों के लिए डायलिसिस की सुविधा शुरू की गई है,भविष्य में भी ऐसे कार्यक्रम आयोजित किए जाने चाहिए ताकि जरूरतमंद लोगों की सेवा की जा सके । पूर्व चेयरमैन सतपाल ब्रह्मचारी ने कहा की जनसेवा से ही व्यक्ति महान होता है और अखाड़े के सचिव स्वामी दामोदर महाराज ने ठंड में गरीब लोगों के लिए वितरण का कार्य आयोजन कर पुण्य कार्य किया है। इसके लिए उन्हें साधुवाद देते हैं अंत में स्वामी दामोदर दास महाराज ने सभी गणमान्य अतिथियों का आभार व्यक्त करते हुए कंबल वितरण का कार्यक्रम संपन्न किया। कार्यक्रम में कमलदास महाराज,अमृतमुनि महाराज,दुर्गा दास महाराज ,पार्षद सुनील गुड्डू, नितिन माणा,बीजेपी नेता भूपेन्द्र कुमार, डॉ नारायण पंडित, सागर झा, श्याम बिहारी आदि मौजूद रहे।