श्रीपंच अग्नि अखाड़े में संतों ने किया भूमि पूजन

 हरिद्वार। सोमवती अमावस्या के पावन पर्व पर विशेष मुहूर्त में भूपतवाला स्थित झालावार आश्रम में श्रीपंच अग्नि अखाड़ा के नये भवन के निर्माण हेतु भुमि पूजन विद्वान आचार्यों द्वारा किया गया। भूमि पूजन में अखाड़े के पंच पदाधिकारी व अपर मेला अधिकारी हरबीर सिंह तथा मेला एसएसपी जनमेजय खण्डूरी उपस्थित रहे।


इस अवसर पर अग्नि अखाड़े के वरिष्ठ म.म.स्वामी कैलाशानंद ब्रह्मचारी महाराज ने कहा कि आदि अनादि काल से ही अखाड़ों में भूमि पूजन से कुंभ मेले की शुरूआत होती है। अगले वर्ष होने वाले कंुभ मेले के दृष्टिगत अखाड़े के संतों व श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए भवन निर्माण कार्य का श्रीगणेश किया गया है। चूंकि कोरोना की वजह से इस बार कुंभ मेले संतों के शिविर स्थापित नहीं किए जाएंगे। इसलिए देश भर से आने वाले सभी संत अखाड़ों में ही ठहरेंगे। संतों की सुविधा के लिए अखाड़े में भवन निर्माण का कार्य शुरू किया गया है। अग्नि अखाड़े के राष्ट्रीय महामंत्री श्रीमहंत सोमेश्वरानंद ब्रह्मचारी महाराज व सचिव श्रीमहंत संपूर्णानंद ब्रह्मचारी महाराज ने कहा कि कुंभ की आधारशिलाा सभी तेरह अखाड़ों की परंपरांओं पर टिकी है। अखाड़े कुंभ के आकर्षण का प्रमुख केंद्र होते हैं जो बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं को आकर्षित करते हैं। कुंभ को सकुशल, दिव्य व भव्य रूप से संपन्न कराने के लिए अखाड़े में स्थाई निर्माण कार्य शुरू किए गए हैं। जिनका लाभ आने वाले कुंभ मेलों में भी प्राप्त होगा। श्रीमहंत साधनानंद महाराज ने कहा कि कंुभ मेला सनातन धर्म का प्रमुख पर्व और विश्व का सबसे बड़ा धार्मिक आयोजन है। अपर मेला अधिकारी हरबीर सिंह ने कहा कि भूमि पूजन प्राचीन परंपरा है। संत महापुरूषों के सानिध्य में अखाड़े में भूमि पूजन कर स्थाई निर्माण कार्यो का श्रीगणेश किया गया। संत महापुरूषों के आशीर्वाद से कुंभ मेला दिव्य व भव्य रूप से संपन्न होगा। कुंभ मेला एसएसपी जनमेजय खण्डूरी ने कहा कि पूज्यनीय संत महापुरूषों के आशीर्वाद से कुंभ मेले को सकुशल संपन्न कराया जाएगा। इस दौरान सचिव श्रीमहंत जियानंद ब्रह्मचारी, सचिव श्रीमहंत निलेश चैतन्य, थानापति श्रीमहंत विचित्रानंद ब्रह्मचारी, श्रीमहंत परमेश्वरानंद ब्रह्मचारी, श्रीमहंत विवेकानंद ब्रह्मचारी, श्रीमहंत उमेशानंद ब्रह्मचारी, स्वामी ललितानंद गिरी, महंत रामकृष्ण दास, आदि मौजूद रहे।


Comments